चौधरी आफताब अहमद ने पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद को दी खिराजे अकीदत

0
235
Nuh Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : कांग्रेस के दिग्गज़ नेता रहे व भारत के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद को जिला कांग्रेस मुख्यालय नूंह पर खिराजे अकीदत पेश की गई, इस दौरान किसान आंदोलन में शहीद सैंकड़ों किसानों को भी खिराजे अकीदत पेश की गई। कांग्रेस विधायक दल के उप नेता व नूंह विधायक चौधरी आफताब अहमद ने इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि राजेंद्र प्रसाद आजादी की लड़ाई के व कांग्रेस के जाबाज सिपाही थे। महात्मा गांधी की विचारधारा को वो बड़े समर्थक थे और गांधी जी के साथ अंग्रेजी हुकूमत से लगातार लड़ते रहे। चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि भारत रत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद एक शिक्षक थे, वो अंग्रेज़ी के प्रोफ़ेसर रहे, इकोनॉमिक्स के प्रोफ़ेसर रहे और फ़िर कानून में पीएचडी भी किया।
चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि कांग्रेस का स्वर्णिम इतिहास रहा है और देश की आजादी से लेकर देश निर्माण में कांग्रेस पार्टी का बड़ा योगदान रहा है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने संकल्प लिया कि वो लोकतंत्र व गांधीवादी विचारधारा को मजबूत करने के लिए हर संभव प्रयास करते रहेगें।
पीसीसी सदस्य महताब अहमद ने प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वो महान स्वतंत्रता सेनानी थे और भारतीय स्वाधीनता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से थे और उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में व भारतीय संविधान के निर्माण में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया था।
इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में विधायक चौधरी आफताब अहमद ने नूंह बीजेपी द्वारा कृषि बिलों के समर्थन में आयोजित कार्यक्रम पर बोलते हुए कहा कि जो नेता काले कृषि कानूनों को सफ़ेद बता रहे हैं दरअसल ऐसे लोग किसानों के खिलाफ काम कर रहे हैं। देश का सारा किसान बीजेपी के काले कानूनों को अच्छे से समझ गया है और कांग्रेस पार्टी किसानों की मांगों का समर्थन करती हैं।
चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि उनकी पार्टी गठबंधन सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव ला रही है क्यूंकि ये सरकार आम जन के साथ साथ विधायकों का भी विश्वास खो चुकी है।
इस दौरान जिला कांग्रेस मुख्यालय पर सैंकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद थे।