फरीदाबाद के रहने वाले फिल्ममेकर अमितांश का नाम इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स 2021 में हुआ दर्ज 

0
311
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : फरीदाबाद के रहने वाले फिल्ममेकर अमितांश अपनी बहुत सारी फिल्मों के लिए पहले ही काफी सारे अवार्ड्स जीत चुके है, जिनमें से पंजाबी फीचर फिल्म दुल्ला भट्टी फ़िल्मफ़ेअर अवार्ड्स में नामांकित हुई थी व पीटीसी पंजाबी अवार्ड्स में बेस्ट विलन का अवार्ड जितने में सफल हुई थी। इसके अलावा मुक्ति, रिपोर्ट कार्ड, त्रिनेत्र, ब्लाइंड डेट, ये सारी फिल्में जिनके लेखक व निर्देशक अमितांश हैं, भारत और विदेश में कई सारे फ़िल्म फेस्टिवल में नामांकित हुई, ना सिर्फ नामांकित हुई बल्कि  त्रिनेत्र और ब्लाइंड डेट के लिए अमितांश को ट्रॉफी से पुरुस्कारित भी किया गया और अब लॉकडाउन के समय में बनायी गई इनकी फ़िल्म अंतिम दर्शन, जिसको आप यूट्यूब पर देख सकते हैं। इस फ़िल्म से फरीदाबाद के अमितांश अपना नाम इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स 2021 में दर्ज करने में कामयाब हुए हैं। फ़िल्म के लेखक व निर्देशक अमितांश खुद है व फ़िल्म में कलाकारों की बात की जाए तो, कंचनदीप कौर, हैरी बसरा और अमितांश हैं। फ़िल्म की एडिटिंग राज मेहता ने की हैं व फ़िल्म की सिनेमेटोग्राफी अमितांश के 10 साल के बेटे पुन्य राज भाटिया की सहायता से की गई है। फ़िल्म लॉकडाउन के दौरान कम से कम समय में, अपने अपने घरों से शूट करके बिना किसी से मिले, लॉकडाउन के नियमो का पालन करते हुए 41 घंटे 39 मिनट्स में पूरी, रीलीज़ करके रिकॉर्ड बनाने में कामयाब हुई है।
अमितांश का कहना हैं कि इस फ़िल्म को बनाने में जो सबसे बड़ी मुश्किल आई, वो यह है कि हमें अपने अपने घरों में ही बिना किसी समान के शूट करना था और कैमरामैन ना होने के कारण इस फ़िल्म को बनाना लगभग नामुमकिन था, लेकिन एक बहुत ही प्रसिद्ध फ़िल्म के बोल है कि जब आप किसी चीज़ को ठान लेते है, तो सारी काएनात आपको उसे पूरा करवाने में जुट जाती हैं, इसी से प्रेरित होकर, अमितांश ने अपने 10 साल के बेटे पुन्य राज भाटिया की सहायता लेते हुए इस फ़िल्म को पूरा किया और न ही सिर्फ पूरा बल्कि रिकॉर्ड भी बनाने में सफल हुए। अपने दर्शकों का शुक्रिया करते हुए अमितांश ने कहा कि उन्हें आशा हैं कि दर्शक उन्हें इस तरह प्यार करते रहे।