हरियाणवी नृत्यों की सतरंगी आभा बिखेरी चौपाल में घुम्मर, फागण, खोडिया और धमाल नृत्यों ने मचाई धूम

0
211

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 4 फरवरी। अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुंड मेले के तीसरे दिन विरासत हेरिटेज की ओर से आयोजित सांस्कृतिक संध्या में हरियाणवी कलाकारों ने जमकर धमाल मचाया। हरियाणवी लोक नृत्यों की प्रस्तुति पर बड़ी चौपाल में बैठे हजारों दर्शक भी खुद को नाचने से रोक नहीं पाए।
हरियाणा पर्यटन विभाग के निदेशक राजीव रंजन सांस्कृतिक संध्या में मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे। उनके साथ कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एवं हरियाणवी धरोहर के निर्माता डॉ. महासिंह पूनिया तथा सीएसआईआर की निदेशक प्रो. रंजना अग्रवाल उपस्थित रही।  दीप प्रज्वलित कर इस मनोहारी शाम का शुभारंभ किया गया। उसके पश्चात हरियाणा के ख्याति प्राप्त कलाकार सोमवीर ने हरियाणवी रागिनी गंगा जी तेरे रेत में… रागिनी प्रस्तुत की। तत्पश्चात डीएन महाविद्यालय फरीदाबाद की छात्राओं ने हरियाणवी लोक नृत्य के माध्यम से घुम्मर विधा को प्रस्तुत किया। कलाकारों ने फागण नृत्य से मंच पर हरियाणा की माटी को जीवंत स्वरूप प्रदान किया।
सलीम हरियाणवी ने हरियाणवी पगड़ी पर आधारित अपना गीत प्रस्तुत कर धूम मचाई। इसके साथ ही धमाल नृत्य की प्रस्तुति ने सबका मन मोह लिया। हरियाणा एक हरियाणवी एक-गीत के माध्यम से राज्य की लोक संस्कृति की खूबियों से दर्शकों का परिचय करवाया गया। मंच के कलाकारों को दर्शक दीर्घा से खूब तालियां मिली। इस अवसर पर पर्यटन विभाग के वास्तुकार धर्मबीर, चीफ इंजीनियर बीडी भनखड़, जयभगवान कंबोज, शशि शर्मा, जैनेंद्र सिंह, रूचि गुप्ता, एडीएम विवेक, रमेश कुमार, राजेश जून, विजय राणा, अनिल सचदेव सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।