यूनिर्वसल अस्पताल में हार्ट का नई तकनीक से सफल आपे्रशन

0
249

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 5 जनवरी। बाइपास रोड स्थित यूनिवर्सल मल्टीपल अस्पताल में आये 64 वर्षीय बुर्जग मरीज जिसके हृदय में पहले ही तीन स्टैंट व एआईसीडी डल चुके थे और इसके साथ ही दोनों हाथों व पैरों की रक्तवाहिनियां भी बंद पड़ी थीं। उसके हार्ट का सफल आप्रेशन किया गया। मरीज के हार्ट के आप्रेशन के लिए ग्राफ के माध्यम से हाथ के ऊपर से एंजियोग्राफी की गई। इस नई तकनीक की वजह से मरीज ओपन हार्ट सर्जरी से बच गया। इस तकनीक को हाईब्रिड तकनीक बोला जाता है।
उक्त जानकारी देते हुए अस्पताल के हृदय, नस व फेफड़े रोग विशेषज्ञ डा. शैलेष जैन ने बताया कि तुगलकाबाद के जाटव मोहल्ला के 64 वर्षीय प्रेम नामक वृद्ध मरीज यनिवर्सल अस्पताल में छाती में दर्द व घबराहट की गंभीर स्थिति में आया जिनके हार्ट में पहले भी तीन स्टैंड व एआईसीडी डल चुके थे और इसके साथ ही दोनों हाथों व पैरों की रक्तवाहिनियां भी बंद पड़ी थीं। इनके हार्ट का चैकअप किया गया तो इनके हार्ट की पंपिंग 12 से 15 प्रतिशत थी। दोनों फेफेड़ों में पानी भरा हुआ था। इस पर इनको बताया गया कि इनको एंजोग्राफी कराने की जरूरत है, जिसके बाद हाईब्रिड तकनीक की सहायता से एंजोग्राफी कर हार्ट की सफल एंजोप्लास्टी की गई। उसके बाद मरीज को 48 घंटे तक सांस की मशीन पर रखा गया। अब मरीज पूर्णतया स्वस्थ है।
आप्रेशन करने वाली टीम में हृदय रोग विशेष डा. शैलेष जैन, डा. रहमान व फिजिशयन डा. पारितोष मिश्रा रहे हैं। इस सफल आप्रेशन पर अस्पताल की स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. रीति अग्रवाल ने आप्रेशन करने वाली टीम को बधाई दी।