जे.सी. बोस विश्वविद्यालय द्वारा मेधावी विद्यार्थियों को विश्व प्रकाश मिशन छात्रवृत्ति वितरित

0
229
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 7 मार्च। मेधावी विद्यार्थियों को पढ़ाई जारी रखने में आर्थिक मदद देने के उद्देश्य से जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने आज आर्थिक रूप से कमजोर 11 विद्यार्थियों को विश्व प्रकाश मिशन छात्रवृत्ति वितरित की। विश्व प्रकाश मिशन, फरीदाबाद एक धर्मार्थ ट्रस्ट है जोकि साधन से वंचित मेधावी युवाओं को शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाता है। इस ट्रस्ट को यूनियन बैंक से सेवानिवृत्त कार्यकारी निदेशक समाजसेवी राकेश सेठी चला रहे है।
विश्वविद्यालय में आयोजित एक समारोह में विद्यार्थियों को कुलपति प्रो. दिनेश कुमार तथा कुलसचिव डॉ. एस.के. गर्ग की उपस्थिति में छात्रवृत्ति पत्र भेंट किये गये। इस अवसर पर डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. लखविंदर सिंह, डिप्टी डीन डॉ. अनुराधा पिल्लई, डाॅ. हरिश कुमार, ट्रस्ट के अध्यक्ष राकेश सेठी, ट्रस्ट के अन्य अधिकारी श्रीमती पूनम सेठी, अजय गुप्ता, आर. के. मुंशी और गुलशन भाटिया सहित कई अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
मिशन द्वारा छात्रवृत्ति के लिए मौजूदा शैक्षणिक सत्र में दाखिला लेने वाले विश्वविद्यालय के 11 विद्यार्थियों का चयन किया गया है, जिनकी पढ़ाई का खर्च मिशन द्वारा वहन किया जायेगा। छात्रवृत्ति के तहत प्रत्येक विद्यार्थी को प्रतिवर्ष अकादमिक फीस के रूप में 50 हजार रुपये तक की वित्तीय सहायता मिलेगी जोकि डिग्री पूरी होने तक जारी रहेगी। इस प्रकार, 11 विद्यार्थियों की शिक्षा का कुल 18.50 लाख रुपये का खर्च मिशन उठायेगा। अब तक विश्वविद्यालय के 50 विद्यार्थी मिशन की छात्रवृत्ति से 48 लाख रुपये की वित्तीय सहायता का लाभ उठा चुके है।
कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने विश्वविद्यालय के मेधावी विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति के माध्यम से पढ़ाई में सहयोग के लिए मिशन के प्रयासों की सराहना की तथा मिशन के अध्यक्ष राकेश सेठी का आभार जताया। कुलपति ने कहा कि मिशन द्वारा प्रतिभावान एवं जरूरतमंद विद्यार्थियों को पढ़ाई के लिए आर्थिक मदद प्रदान करना एक अनुकणीय कार्य है, जिससे समाज में सभी को सीख लेनी चाहिए। उन्होंने लाभान्वित विद्यार्थियों को ट्रस्ट के मिशन के लिए सहयोग देने का आह्वान भी किया।
श्री राकेश सेठी ने कहा कि सभी चयनित विद्यार्थियों की पढ़ाई का खर्च मिशन द्वारा छात्रवृत्ति योजना के तहत वहन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छात्रवृत्ति के लिए 60 से अधिक विद्यार्थियों ने आवेदन किया था, जिनमें से 11 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति के लिए चुना गया है। विद्यार्थियों का चयन उनके शैक्षणिक रिकॉर्ड, व्यक्तिगत साक्षात्कार और आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए किया गया है।
श्री सेठी ने कुलपति को अवगत कराया कि 2016 में स्थापित मिशन ने बीटेक, सीए, सीएस, एमबीबीएस, इत्यादि जैसे तकनीकी और व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए 170 विद्यार्थियों, जिनमें से 95 छात्राएं हैं, को अब तक लगभग 80 लाख रुपये छात्रवृत्ति प्रदान की है। मिशन का उद्देश्य साधन से वंचित युवाओं को सही शिक्षा एवं कौशल प्रदान कर उनका सामाजिक एवं आर्थिक उत्थान करना है ताकि वे राष्ट्र-निर्माण में अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर सके। लाभांवित होने वाले विद्यार्थियों में 49 ऐसे है, जिन्होंने कम उम्र में अपने माता-पिता को खो दिया था।
इस अवसर पर मिशन की छात्रवृत्ति से पढ़ रहे ऐसे विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया, जिन्होंने बेहतरीन शिक्षण रिकार्ड तथा प्लेसमेंट प्राप्त की है। विद्यार्थियों ने मिशन का आभार जताया तथा अनुभव साझे किये। विद्यार्थियों ने बताया कि किस तरह से छात्रवृत्ति के कारण उनकी पढ़ाई पूरी हो सकी।