प्रथम वर्षगांठ तक नहीं मिला लीजा के परिजनों को न्याय

0
542

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj :17 मई 2019 का दिन फरीदाबाद के इतिहास में काला दिन बन गया है। इस दिन सैैैक्टर-3 में अपनी पत्नी व दो बच्चों सहित रहने वाले सरकारी स्कूल में अध्यापक भगवान दास के घर की खुशियों को ग्रहण लग गया था। उनकी बेटी लीजा को उनके ही घर में उस समय निमर्म तरीके से मौत के घाट उतार दिया था। जब वह अपने घर में अकेली थी। लीजा कक्षा 12 वीं पास करने के बाद डाक्टरी की पढाई करने की तैयारी कर रही थीं। लीजा के पिता का सपना था कि उनकी बेटी डाक्टर बनकर देश की सेवा करें। मगर यह सपना अधूरा ही रह गया, क्योंकि सैक्टर 3 के ही पास रहने वाले आकाश पुत्र कृष्ण कुमार ने उनके घर में घुसकर लीजा को बैट से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया था। उस बेरहम कातिल ने लीजा पर धारदार हतियार से कई बार किए थे। इस घटना ने फरीदाबाद ही नहीं पूरे हरियाणा में हलचल मचा दी थी। पुलिस ने मामले की गंभीरता को समझते हुए तुरंत कार्यवाही की और आरोपी को पकड़ लिया था। जो अब तक नीमका जेल में बंद है। पीडित पिता भगवान दास ने नम आंखों से अपनी बेटी को भावभीनी श्रद्धाजंलि देते हुए बताया, जब उनको यह सूचना मिली थी, उनके जीवन में भूचाल सा आ गया था। वह आज-तक अपनी बेटी के खून से लथपथ शव को  भुला नहीं सके हैं। कोई भी पिता इस तरह की घटना को ताउम्र भुला भी नहीं सकता। बतौर शिक्षक लीजा के माता-पिता ने अपने बच्चों को हमेशा देश की सेवा करने की प्रेरणा दी है। लीजा भी शुरू से ही पढाई में होशियार थीं, और डॉक्टर बनकर अपने परिवार एवं देश का नाम ऊंचा करना चाहती थीं। जब 17 मई को यह हत्याकांड हुआ तो पूरा सैैक्टर-3 शोक में डूब गया। 20 मई को सैक्टर-3 में रहने वाले लोगों ने और लीजा के स्कूल के बच्चों ने कैंडल मार्च निकालकर लीजा को श्रद्धांजलि दी, और न्याय की मांग की। इस मामले को शहर की अनेक समाजसेवी संस्थाओं ने जोर-शोर से उठाया था। जिला बार एसोसिएशन ने लीजा के परिजनों का पूर्ण सहयोग किया था। हैल्पर क्लब के सदस्यों ने नीलम चौक पर कैंडल मार्च निकालकर जिला प्रशासन से न्याय देने की मांग की थी। पीडित भगवान दास ने बताया वह शहर के लोगों के और जिला प्रशासन के अभारी हैं। इस दुख की घडी में सबने इस मामले को गंभीरता से उठाया। मगर उनको दुख है कि  लीजा की हत्या को एक वर्ष होने हो चुका है, किन्तु अभी तक हत्यारे को सजा नहीं मिली है। उन्होने कहा उनको देश की न्यायिक परिक्र्रया पर पूरा विश्वास है। यह केस फास्ट ट्रक कोर्ट में चल रहा, और जल्द उनको न्याय मिलेगा।