नेहरू काॅलेज फरीदाबाद तथा भारतीय कम्पनी सचिव दिल्ली के मध्य MOU पर हस्ताक्षर

0
105

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 23 अप्रैल। पंडित जवाहर लाल नेहरू राजकीय महाविद्यालय फरीदाबाद एवं भारतीय कम्पनी सचिव दिल्ली के मध्य MOU पर हस्ताक्षर किए गये। यह कार्यक्रम कम्पनी सचिव दिल्ली के फरीदाबाद चैपटर, सैक्टर-16 ए, फरीदाबाद में आयोजित किया गया। इस MOU पर महाविद्यालय के प्राचार्य, डाॅ0 महेन्द्र कुमार गुप्ता एवं सी.एस. श्री अरूण गोयल, अध्यक्ष फरीदाबाद चैपटर के द्वारा किए गये। इस समय सी.एस. श्री विमल कुमार गुप्ता अध्यक्ष NIRC व ICSI तथा डाॅ0 निधि गुप्ता फैक्लटी वाणिज्य पंडित जवाहर लाल नेहरू राजकीय महाविद्यालय फरीदाबाद तथा दोनों तरफ से स्टाफ ऑनलाईन उपस्थित थे। इसके अतिरिक्त श्रीमती सुमन अध्यक्ष सहायक निदेशक ICSI श्री अरविन्द कुमार ICSI फरीदाबाद तथा श्रीमती प्रीती कपूर अध्यक्ष वाणिज्य विभाग राजकीय महाविद्यालय फरीदाबाद से संस्थान में उपस्थित थे। MOU का मुख्य उद्देश्य दोनों संस्थानों के विद्यार्थियों को शिक्षा में सहयोग प्रदान करना है। यह MOU दोनों संस्थानों में अलग तरह का है।
महाविद्यालय के अनुरोध एवं फरीदाबाद चैपटर के अध्यक्ष सी0एस0 श्री अरूण गोयल अथक मेहनत एवं प्रयासों से सम्भव हो पाया है। इसमें दोनों संस्थान शैक्षणिक रूप में एक दूसरे का सहयोग करेगें। भविष्य में ICSI की परीक्षा का आयोजन भी महाविद्यालय प्रांगण में किया जा सकता है। कम्पनी तथा महाविद्यालय दोनों मिलकर विद्यार्थियों के मनोबल को बढावा देने के लिए समय-समय पर सेमीनार, वर्कशॉप, अन्य प्रकार की प्रतियोगताओं का आयोजन करेगें जिससे विद्यार्थियों में Company Secretary के प्रति जागरूता उत्पन्न होगी और रोजगार के अवसर प्राप्त होगें। दोनें संस्थानों के विशय विषेशज्ञ विद्यार्थियों को जानकरी दे सकते है। महाविद्यालय में अध्य्यनरत लगभग 6500 विद्यार्थियों को पारम्पारिक विशयों एवं डिग्री के साथ पेशेवर कोर्सो के साथ रूझान बढेगा। जिससे विद्यार्थियों में CS करने में आसानी होगी और कम्पनी अधिनियमों के अधीन कम्पनी सचिव की आवश्यकता पूर्ती में महाविद्यालय के विद्यार्थियों का ध्यान/ज्ञान वृद्धित होगा। इस प्रकार के MOU की आवश्यकता NAAC के मूल्यांकन में भी योगदान मिलेगा तथा महाविद्यालय की ग्रेडिंग पर भी इसका अच्छा प्रभाव पडेगा। अन्त में दोनों संस्थानों की तरफ से बधाई दी गई तथा भविश्य में एक दूसरे का सहयोग करने का आश्वासन दिया।