हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की स्टॉल पर लगभग 90 हजार लोगों की भीड़

0
344

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 34 वां सूरजकुंड हस्तशिल्प मेले का आज आखिरी दिन था। मेले के कल्याण परिषद् के द्वारा लगाई गई स्टॉल पर अच्छी खासी भीड़ देखने को मिली। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की स्टॉल पर बच्चों वह महिलाओं द्वारा निर्मित चीजों का प्रचार प्रसार बड़े अच्छे ढंग से किया गया। जिन सामान को हम अक्सर व्यर्थ समझ कर फेंक देते हैं उसी सामान से बच्चों व महिलाओं के द्वारा सुंदर सुंदर व मनमोहक सामग्री बनाई गई है। यह सामग्री जिला नूंह, पलवल व झज्जर के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीब परिवार के बच्चे व महिलाओं के द्वारा निर्मित की गई है। आखरी दिन अति विशिष्ट व गणमान्य लोगों ने स्टॉल पर आकर स्टॉल का अवलोकन किया वह बच्चों में महिलाओं के द्वारा बनाए गए उत्पादों की खरीदारी व सराहना की। हरियाणा राजभवन से आई श्रीमती जी अनुपमा आईएएस ने कहा कि आज जहां मशीनों के द्वारा तरह-तरह के उत्पाद बनाए जाते हैं उनसे कहीं सुंदर महिलाओं व बच्चों के द्वारा हाथ से की गई निर्मित वस्तुएं बहुत ही सराहनीय है। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के द्वारा लगाई गई यह स्टॉल मेले की रौनक को बनाने में अच्छा खासा योगदान निभा रही है। सूरजकुंड में हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के नोडल अधिकारी कमलेश शास्त्री ने बताया कि राज्य बाल कल्याण परिषद बाल कल्याण को लेकर बेहतर तरीके से काम कर रही है। इसी उद्देश्य के चलते यहां महिलाओं द्वारा निर्मित उत्पादों की स्टाल लगाई गई हैं। उन्होंने बताया कि धीरे धीरे लोगों का इन उत्पादों की तरफ रुझान बढ़ रहा है हमारी स्टॉल पर लगभग अब तक 80 से 90 हजार लोगों ने। विजिट किया है। बच्चों एवं महिलाओं द्वारा निर्मित सामान को खरीदा है। और साथ ही उम्मीद जताई कि परिषद की ओर से लगाए गए स्टॉल महिलाओं के स्वावलंबन के नजरिए से उपयोगी साबित होंगे। साथ ही बताया कि परिषद के मानद् महासचिव कृष्ण ढुल के दिशा निर्देश व अथक प्रयास से परिषद दूसरी बार मेले में स्टाल लगी है।                                                                                                                                                                                                                  इस मौके पर सुंदरलाल खत्री जिला बाल कल्याण अधिकारी, फरीदाबाद, जिला बाल कल्याण अधिकारी सुरेखा, रामेश्वर रावत, आशा, मनीषा, कीर्ति, आदि गणमान्य लोग उपस्थित थे।