अब मेट्रो अस्पताल का लेडीज क्लब करेगा महिलाओं को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक

0
247
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 31 जनवरी। फरीदाबाद के सेक्टर-16ए स्थित मेट्रो अस्पताल में रविवार को बडखल की विधायिका श्रीमती सीमा त्रिखा ने लेडीज क्लब की विधिवत रूप से शुरूआत की। इस अवसर पर मुख्य रूप से अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर एवं डायरेक्टर कार्डियोलॉजी डा. नीरज जैन, चीफ आप्रेटरिंग ऑफिसर एवं मेडिकल सुपरीडेंट डा. मनजिंदर भट्टी के अलावा महिला रोग विशेषज्ञ डा. चंचल गुप्ता एवं विनीता खरब मौजूद रहे। इस दौरान डा. नीरज जैन ने विधायक सीमा त्रिखा का अस्पताल पहुंचने पर फूलों का बुक्के देकर स्वागत किया। इस लेडीज क्लब का उद्देश्य महिलाओं को उनके स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना एवं उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाना है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से इस मौके पर विधायक सीमा त्रिखा ने मेट्र्रो अस्पताल द्वारा शुरू किए गए लेडीज क्लब की शुरूआत की जमकर सराहना करते हुए कहा कि यह महिलाओं को सशक्त एवं उन्हें स्वस्थ्य रखने की दिशा में उठाया गया कदम है और उन्हें उम्मीद है कि अस्पताल ने जो प्रयास शुरू किया है, उस प्रयास में वह अवश्य सफल होगा। उन्होंने महिलाओं से अपील की कि वह भी अपने स्वास्थ्य की समय-समय पर जांच करवाकर इस प्रकार के क्लबों की पहल का लाभ उठाएं। वहीं अस्पताल के फाउंडर चेयरमैन, पदम विभूषण, पदमभूषण एवं डा. बी.सी. राय नेशनल अवार्डी डा. पुरूषोत्तम लाल ने बताया कि आज के दौर में जानकारी के अभाव के कारण अधिकतर महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत नहीं रहती और बीमारियों से जूझती रहती है। मेट्रो अस्पताल के लेडीज क्लब की एक कोशिश है, जिसके माध्यम से फरीदाबाद की महिलाओं को न केवल वरिष्ठ डाक्टरों की सलाह मुफ्त  मुहैया करवाई जाएगी, बल्कि हृदय रोग, मासिक रोग, खान पान, चमड़ी रोग, हड्डी रोगों से बचाव के प्रति भी महिलाओं को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने आशा जताई कि मेट्रो अस्पताल की यह कोशिश कारगर साबित होगी और महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होंगी। कार्यक्रम में डा. नीरज शर्मा ने कहा कि भारत में महिलाओं का साक्षरता प्रतिशत दर केवल 65 है, जबकि 23 प्रतिशत महिलाएं लेबर फोर्स पर है। उन्होंने आंकड़े बताते हुए कहा कि 80 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं स्वास्थ्य सेवाओं के लिए अपने परिवार पर आश्रित रहती है और जिसके चलते वह अक्सर बीमारियों को गंभीरता से नहीं लेती और जब बीमारी विकराल हो जाती है, तब उसका इलाज करवाती है, जिससे कई बार उनकी जान जाने की नौबत तक आ जाती है। उन्होंने कहा कि अस्पताल का लेडीज क्लब इस दिशा में कार्य करके महिलाओं को उनके स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने का प्रयास करेगा। कार्यक्रम में  डॉ. मनजिंदर भट्टी ने बताया कि भारत दुनिया की पांचवीं बड़ी इकोनॉमी है जबकि काम काजी महिलाओ का प्रतिशत कम होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि भारत में लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट ऑफ वूमेन 2019 की रिपोर्ट के अनुसार भारत ने इसका प्रतिशत केवल 23 फीसदी है जबकि पाकिस्तान में महिलाओं का वर्कफॉर्स 24 फीसदी, श्रीलंका 35 फीसदी, अमरीका 59 फीसदी एवं चाइना में इसका प्रतिशत 61 फीसदी है। इन सब आंकड़ों का निष्कर्ष है कि भारत में 70 से 80 प्रतिशत महिलाएं स्वास्थ्य सेवाओं के लिए अपने परिवार पर निर्भर करती है और मेट्रो लेडीज़ क्लब की शुरुवात इसी गैप को ध्यान में रख कर की जा रही है। कार्यक्रम में महिला रोग विशेषज्ञ डा. चंचल गुप्ता व डा. विनीता खरब ने संयुक्त रूप से कहा कि आज की भागदौड़ भरी जिंदगी और गलत खानपान के कारण महिलाओं में कई प्रकार के रोग पनपने लगे है, जिनका समय पर अगर उपचार न किया जाए तो वह गंभीर रूप ले लेते है इसलिए प्रत्येक महिला को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहते हुए निरंतर अपनी जांच करवानी चाहिए। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद की महिलाएं अब मेट्रो अस्पताल के डाक्टरों की सेवाएं निशुल्क ले सकेंगी।