एनएसयूआई के उपाध्यक्ष विकास फागना ने पहुंचकर छात्रों की उठाई आवाज 

0
135
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 19 फरवरी। जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए के छात्रों की मार्च में होने वाली परीक्षाओ को ऑनलाइन माध्यम से करवाने की मांग को लेकर सेकड़ो छात्रों ने कॉलेज गेट पर अपनी मांगों को पूरा करवाने के लिए धरना दिया। एनएसयूआई के उपाध्यक्ष विकास फागना ने प्रदर्शन में पहुंचकर छात्रों की आवाज उठाई और समर्थन दिया। इस अवसर पर विकास फागना ने कहा कि एनएसयूआई हर लड़ाई में छात्रों के साथ है। उन्होंने कहाकि जब कक्षाएं ऑनलाइन हुई,सभी पढ़ाई ऑनलाइन हुई तो ऐसे में अब ऑफलाइन परीक्षाओं का कोई औचित्य नही है।निकटवर्ती पंजाब विश्वविद्यालय में ऑनलाइन परीक्षाएं होनी है इसी प्रकार देश के काफी यूनिवर्सिटी ऑनलाइन परीक्षाएं करवा रही है परन्तु जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय  ऑफलाइन परीक्षाओं पर अड़ियल रवैया अपनाए बैठा है। इसके साथ ही हाल ही में अभी कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के पीजी कोर्सिस की परीक्षाएं ऑनलाइन हो रही है तो वाईएमसीए विश्वविद्यालय के फस्ट ईयर के छात्रों के साथ भेदभाव क्यो किया जा रहा है। उन्होंने कहाकि जब वाईएमसीए विश्वविद्यालय सुचारु रूप से चालू नही है तो ऑफलाइन परीक्षाएं क्यों। इस अवसर पर छात्र नेता मयंक भारद्वाज ने कहाकि सभी विश्वविद्यालयों द्वारा ऑनलाइन परिक्षाएं करवाई जा रही है क्योंकि अभी कॉरोना खतरा टला नहीं है और छात्रों के हित में ऑनलाइन परीक्षाएं ही बेहतर विकल्प है। गृह मंत्रालय ने भी आनलाइन मोड औफ एजुकेशन को प्रिफ्रेब्ल विकल्प बताया है।इसके साथ ही अभी वेक्सिनेशन भी नही हुई तो ऐसे में छात्रों की सुरक्षा कैसे सुनिश्चित की जा सकती है। प्रदर्शन को देख विश्वविद्यालय के प्रशासन ने उनकी मांगो को देखते हुए यह निर्णय लिया है कि फस्ट ईयर के छात्रों की पढ़ाई पूरी कराई जाये जिसके लिए परीक्षाओं की दो महीने का समय अवधि बड़ा दी गई है। इस मौके पर अतुल सिंह, जयंत, विनीत, नितिन, युवराज, ख़ुशी, सतिश, ह्रितिक, भार्गवी, लोकेश चौधरी, मयंक, जूही, निखिल, अनुराग आदि छात्र मौजूद रहे।