शिकायत के बाद भी कार्रवाई न होने से नाराज मॉडर्न डीपीएस के अभिभावकों ने किया लघु सचिवालय पर प्रदर्शन 

0
285

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 23 मई। प्राइवेट स्कूलों द्वारा लगातार की जा रही मनमानी से परेशान अभिभावकों का शनिवार को सब्र टूट गया। नहर पार स्थित मॉडर्न डीपीएस के सैकड़ों अभिभावकों ने शनिवार को मास्क लगाकर, फिजिकल डिस्टेंट का पालन करते हुए लघु सचिवालय पर प्रदर्शन करके उपायुक्त को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें कहा गया है कि इस स्कूल के अभिभावकों ने अप्रैल महीने में ही दर्जनों शिकायत चेयरमैन एफएफआरसी उपायुक्त व जिला शिक्षा अधिकारी को दे दी थी । लेकिन उन पर अभी तक कोई भी कार्रवाई न होने से इस स्कूल के हौसले बुलंद हैं। कार्रवाई के नाम पर नोटिस नोटिस भेज कर कागजी कार्रवाई की जा रही है। अभिभावक सचिन शर्मा, दीपक खुराना, सुरेशअंटिल, जितेंद्र सिंह, मनोज कौशिक, मोहित गर्ग ,विवेक यादव ,अंकित  सिंघल, हर्ष  मिधा, विकास खंडूजा आदि ने कहा है कि स्कूल प्रबंधक सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन नहीं कर रहा है और ट्यूशन फीस में कई फंडों को मर्ज करके उसी को ट्यूशन फीस बता कर बढ़ाई गई ट्यूशन फीस मांग रहा है । अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन को कई बार पत्र लिख कर ट्यूशन फीस का ब्रेकअप देने के लिए कहा लेकिन उन्होंने देने से मना कर दिया। अब तो स्कूल प्रबंधक ऑनलाइन क्लास करा रहे अध्यापकों से सरेआम बच्चों और उनके अभिभावकों को धमकी  दिलवा रहा है कि जो फीस मांगी जा रही है उसे जमा करा दो वरना तुम्हारे बच्चे की ऑनलाइन क्लास बंद कर दी जाएगी और उसे उसका नाम काट दिया जाएगा। इससे बच्चों  में डर पैदा हो गया है बच्चे डरे डरे से रहने लगे  हैं। मंच के प्रदेश महासचिव कैलाश शर्मा ने कहा है कि मंच की ओर से भी  इस स्कूल को एक पत्र भेजकर ट्यूशन फीस का ब्रेकअप मांगा गया था लेकिन उन्होंने कोई ब्रेकअप नहीं दिया है। मंच अभिभावकों की सभी मांगों का समर्थन करता है। मंच ने चेयरमैन एफएफआरसी से कहा है कि  नोटिस मिलने के बाद भी इस स्कूल प्रबंधक द्वारा की जा रही मनमानी के लिए इस स्कूल के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए और बच्चों को धमकाने वाले  अध्यापकों के  खिलाफ एफ आई आर दर्ज की जाए साथ ही साथ शिक्षा विभाग  हरियाणा को इस स्कूल की मान्यता रद्द करने के लिए कहा जाए। मंच ने अभिभावकों से कहा है कि वह अपने घर पर रह कर ही सोशल मीडिया के द्वारा स्कूल की मनमानी की आवाज उठाएं माहौल को देखते हुए अभी सड़कों पर निकलकर प्रदर्शन करने से परहेज करें। मंच पूरी तरह से उनके साथ है मंच पूरी तरह से उनके साथ है।