युवा नेता रोहित नागर को सौंपी सकुशल घर पहुंचाने की जिम्मेदारी

0
596

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj :17 मई युवा कांग्रेसी नेता रोहित नागर ने प्रवासी मजदूरों को सकुशल पहुंचाया उनके घर। अम्बाला से मध्य प्रदेश के लिए पैदल निकले थे अपने घर की ओर। बीबीसी पर न्यूज चलने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने लिया संज्ञान। फरीदाबाद के रोहित नागर को मजदूरों को सकुशल उनके घर पहुंचाने की जिम्मेदारी सौंपी। जिनके आदेशों का पालन करते हुए रोहित नागर ने मजदूरों की तलाश की, जो सराय ख्वाजा के सीनियर सैकेण्डरी स्कूल में बने शेल्टर होम में ठहरे हुए थे। रोहित नागर ने जब इन मजदूरों से मुलाकात की और हाल-चाल पूछा तो इन्होंने बताया कि ये 17 लोग हैं, जिसमें बच्चे एवं महिलाएं भी शामिल हैं। ये लेाग अम्बाला से पैदल चलकर मध्य प्रदेश के छतरपुर जा रहे थे। रोहित नागर ने इन सभी के लिए खाने-पीने की व्यवस्था की और बच्चों के लिए कपड़े एवं जूते भिजवाए। इस दौरान प्रियंका गांधी कार्यालय से रोहित नागर का बार-बार संपर्क होता रहा। रोहित नागर ने बताया कि उन्होंने अगले ही दिन इन मजदूर परिवारों के जाने की व्यवस्था की और सभी का पास बनवाया। जिसके बाद इनको बस से इनके घर के लिए रवाना किया गया, जहां इनको मध्यप्रदेश, छतरपुर के विधायक प्रद्युम्न ने रिसीव किया। रोहित नागर ने कहा कि गरीब-मजदूर वर्ग सरकार की नीतियों की वजह से काफी परेशानी में हैं। हमें इनकी मदद करनी होगी। कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी इन गरीब-मजदूरों की ओर से काफी चिंतित है और देश के हर कोने में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को इस बाबत जिम्मेदारी सौंपी जा रही है क्योंकि केन्द्र की मोदी सरकार मजदूरों को सुविधा देने में पूरी तरह फेल साबित हुई है। उन्होंने प्रधानमंत्री जी से अपील की, कि बॉर्डर पर जो बसें खड़ी हैं, उनको परमिशन दी जाए, ताकि पैदल अपने घरों की ओर चल रहे मजदूरों को सकुशल उनके घर पहुंचाया जा सकें।

‘कांग्रेस महासचिव द्वारा दी गई जिम्मेदारी को प्रसन्नतापूर्वक पूरा करते हुए युवा नेता रोहित नागर ने प्रियंका गांधी का धन्यवाद जताया और कहा कि उन्होंने जिस प्रकार उन पर भरोसा जताया, उससे वह काफी उत्साहित हैं। भविष्य में कांग्रेस आलाकमान द्वारा जो भी जिम्मेदारी एवं आदेश उनको दिए जाएंगे, उसको वह प्रमुखता से निभाएंगे।’