स्कूली विद्यार्थियों के खाते में बिना देरी के डलेगी भत्ता राशि सरकारी स्कूलों में : उपायुक्त जितेंद्र यादव

0
215

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj :10 सितम्बर। जिला उपायुक्त जितेंद्र यादव ने बताया कि सरकारी स्कूलों में पढ़ने  वाले विद्यार्थियों को मिलने वाले सरकारी भत्ते बिना देरी के सीधी आनँलाइन खाते में आएंगी।

उपायुक्त जितेन्द्र यादव ने बताया कि पोर्टल पर विद्यार्थियों के खाता नंबर गलत हैं। जो कि अभी विद्यार्थियों के जो खाते पीएफएमएस पोर्टल पर दर्शाए गए हैं। उनमें से अधिकतर के अकाउंट नंबर भी ठीक नहीं हैं। बैंक मर्ज होने के कारण आईएफएससी कोड बदलने से भी दिक्कत आ रही है। इससे भी इन बच्चों के खाते में समय पर सरकारी भत्ते नहीं आ पा रहे हैं।

उपायुक्त ने बताया कि अकाउंट नंबर और आईएफएससी कोड में से अगर एक भी संख्या गलत होगी तो मिसमैच का मैसेज आएगा। जिससे विद्यार्थी खाते में पैसे आने से वंचित हो रहे है। इसको लेकर शिक्षा विभाग ने सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों के बैंक खातों के अकाउंट वेरिफिकेशन पोर्टल बनाया है।

उन्होंने बताया कि पीएफएमएस डाटा यानी पब्लिक फाइनेंशियल मैनेजमेंट सिस्टम पर जो डाटा है, वह दुरुस्त नहीं है। जिसके चलते विभाग ने नया पोर्टल बनाया है। इस पर जो डाटा अपलोड होगा वह पहले अपडेट किया जाएगा।

जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार स्टूडेंट अकाउंट पोर्टल शिक्षा विभाग ने बनाया है। इस पर अपडेट अकाउंट अपलोड किए जाएंगे। इसके बाद सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले विद्यार्थियों को सरकार की तरफ से दिए जाने वाले भत्ते बिना देरी के खाते में आएंगे। जिला शिक्षा अधिकारी ऋतु चौधरी ने बताया कि सरकार की ओर से भत्ता व प्रोत्साहन राशि में कक्षा 1से 8वीं तक के सभी श्रेणी के छात्रों के लिए निशुल्क वर्दी योजना है। इसके साथ ही पहली से पांचवी तक के 800 रुपए प्रति विद्यार्थी दिए जाते हैं। छठी से आठवीं तक के एक हजार रुपए प्रति विद्यार्थी नॉन एससी छात्र को मुफ्त स्कूल बैग मिलते हैं। पहली से पांचवी तक के 120 रुपये प्रति विद्यार्थी दिए जाते हैं। छठी से आठवीं तक के 150 रुपए प्रति विद्यार्थी नॉन एससी छात्र को मुफ्त लेखन सामग्री दी जाती है। उन्होंने आगे बताया कि पहली से पांचवीं तक के 100 रुपए प्रति विद्यार्थी सरकार द्वारा दिए जाते है।

उन्होंने बताया कि इससे ऊपर की क्लास में भी छात्रवृत्ति आती है। पोर्टल अपडेट होने से पात्र विद्यार्थियों को सरकार की ओर से भेजी गई राशि समय से खाते में मिल जाएगी। नए पोर्टल पर अपडेट नंबर अपलोड होंगे। उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग ने जो नया पोर्टल बनाया है। उस पोर्टल पर अध्यापक बच्चों के सही खाते नंबर सही आईएफएससी कोड के साथ अपलोड करेंगे, इस प्रकार के आदेश मुख्यालय से आए हैं। इस बारे सभी ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को हिदायतों के बारे में बता दिया गया है। उन्होंने बताया कि स्कूल मुखियाओं को भी यह निर्देश दिए गए हैं कि वे सभी टीचर्स को बताए जिससे नई व्यवस्था के तहत पोर्टल पर डाटा अपलोड हो सके।

जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी डॉ मुनेश चौधरी ने आज शुक्रवार खंड बल्लबगढ़ के अधीन आने वाले 107 सभी प्राइमरी स्कूलों के मुख्य अध्यापकों के साथ कोविड-19 के दिशा निर्देशों की पालना करते हुए राजकीय ब्वायज सीनियर सेकेंडरी स्कूल सैक्टर-3 में दो पारियों  में मीटिंग का आयोजन किया गया।

जिसमे खंड शिक्षा अधिकारी, श्रीमती बलबीर कौर,एमआईएस कोर्डिनेटर श्री नरेंदर, प्रोग्राम एग्जीक्यूटिव मिड डे मील श्रीमती नीलम यादव, श्रीमती समीता गर्ग ने भाग लिया। जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी डाँ मुनेश चौधरी ने विद्यार्थियों के खाते सत्यापन करने, खाता खुलवाने और आधार कार्ड से खाता जुड़वाने, परिवार पहचान पत्र (पीपीपी/फैमिली आईडी), वजन तौलने की मशीन, मिड-डे मील के तहत किचन गार्डन, कोविड-19 टीकाकरण, अवसर ऐप पर उपस्थिति, साप्ताहिक और मासिक सर्वेक्षण, निष्ठा प्रशिक्षण, डीबीटी (प्रत्यक्ष लाभ अंतरण) सहित शिक्षा विभाग द्वारा जारी तमाम हिदायतों के यथाशीघ्र क्रियान्वयन बारे दिशा निर्देश दिए।