जे.सी. बोस विश्वविद्यालय में संविधान दिवस मनाया गया

0
426

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 26 नवम्बर। जे.सी. बोस विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद ने आज संविधान दिवस के उपलक्ष्य में कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम का आयोजन कम्युनिकेशन एवं मीडिया टेक्नोलाॅजी विभाग द्वारा किया गया। उल्लेखनीय है कि 26 नवंबर, 1949 को भारत का संविधान अपनाया गया था, जिसे 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया।
इस अवसर पर मीडिया स्टडीज के विद्यार्थियों द्वारा एक नुक्कड़-नाटक का मंचन किया गया, जिसका उद्देश्य संविधान दिवस को लेकर विद्यार्थियों को शिक्षित तथा देश व समाज के लिए उनकी जिम्मेदारियों को लेकर जागरूक करना था। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलसचिव डॉ. सुनील कुमार गर्ग ने की तथा संविधान निर्माता डॉ. बी.आर. अम्बेडकर श्रद्धांजलि अर्पित की।
अपने संदेश में कुलपति श्री. राज नेहरू ने कहा कि अधिकार एवं कर्तव्य किसी राष्ट्र, संगठन या व्यक्ति के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जोकि हमें संविधान द्वारा प्रदान किए गये है। उन्होंने कहा कि संविधान दिवस देश के संविधान में विश्वास की पुष्टि करता है, जिस पर हमें गर्व होना चाहिए।
इस अवसर पर बोलते हुए, कुलसचिव डॉ गर्ग ने राष्ट्र के प्रति डॉ अंबेडकर के जीवन, प्रतिबद्धता और योगदान पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का समापन पर सभी ने देश के संविधान की अनुपालना का संकल्प लिया।
कार्यक्रम का संचालन लिबरल आर्ट्स एंड मीडिया स्टडीज के डीन प्रोफेसर अतुल मिश्रा और एसोसिएट प्रोफेसर डॉ पवन सिंह मलिक के मार्गदर्शन में किया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. अखिलेश त्रिपाठी ने किया। इस अवसर पर विभिन्न संकायों के डीन प्रो. कोमल भाटिया एवं प्रो. आशुतोष दीक्षित भी उपस्थित थे।
000