साइबर थाना बल्लबगढ़ की टीम ने नागरिकों को तुरंत लोन उपलब्ध करवाने वाले फर्जी ऐप के बारे में किया जागरूक

0
41

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : हरियाणा पुलिस द्वारा मनाए जा रहे साइबर जागरूकता माह के अंतर्गत जिला साइबर अपराध नोडल अधिकारी डीसीपी नीतीश कुमार अग्रवाल के दिशा निर्देश के तहत साइबर थाना बल्लबगढ़ प्रभारी इंस्पेक्टर नवीन व उनकी टीम ने सर्वोदय हॉस्पिटल तथा सेक्टर 8 पार्क में आमजन को साइबर अपराध के बारे में जागरूक किया।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि एजीडीपी क्राइम हरियाणा के दिशा निर्देश के तहत पूरे हरियाणा में अक्टूबर माह को साइबर जागरूकता माह के रूप में मनाया जा रहा है। इसी के तहत फरीदाबाद के तीनों जोन में स्थित साइबर पुलिस स्टेशन की टीम प्रतिदिन आमजन को साइबर अपराध के तरीकों तथा उनसे बचाव के उपायों के बारे में जानकारी प्रदान कर रही है। इसी क्रम में साइबर पुलिस स्टेशन बल्लभगढ़ की टीम ने सर्वोदय अस्पताल पहुंचकर वहां पर मौजूद नागरिकों को फर्जी लोन एप से होने वाले साइबर फ्रॉड के बारे में जानकारी दी। पुलिसकर्मियों ने बताया कि आजकल फोन पर कुछ मिनटों में लाखों रुपए का लोन सस्ते ब्याज पर देने का दावा करने वाले बहुत सारे फर्जी ऐप मौजूद हैं जो चंद मिनटों में ही बड़ी रकम का लोन देने का झूठा दावा करते हैं। आज के समय में मोबाइल एप्स के माध्यम से पैसे का लेनदेन बेहद आसान हो गया है। सभी लोग मोबाइल के जरिए आसानी से पेमेंट कर लेते हैं। अब इस मोबाइल क्रांति के साथ ही पिछले कुछ सालों में मोबाइल ऐप के माध्यम से फोन पर लोन देने वाले आप भी एक्टिव हो चुके हैं। आजकल फोन पर चंद सेकेंड में लोन प्राप्त करने के विज्ञापन नजर आते हैं। गूगल प्लेस्टोर पर भी इंस्टेंट लोन देने वाले सैकड़ों मोबाइल एप्स मौजूद हैं। कुछ मिनटों में लाखों रुपए का लोन देने का दावा करने वाले यह मोबाइल आपके बैंक अकाउंट, एटीएम व क्रेडिट कार्ड संबंधित जानकारी एकत्रित करते हैं जिसके पश्चात आपके बैंक खातों की सारी जानकारी साइबर ठगों के पास पहुंच जाती है और वह आप को लोन देने की बजाय आपके खाते में पड़े सारे पैसे उड़ा लेते हैं। सभी नागरिकों से अनुरोध है कि किसी भी प्रकार के सस्ते लोन या लुभावने ऑफर के लालच में न आएं और यदि आपको लोन की आवश्यकता है तो इसके लिए बैंक से संपर्क करें अन्यथा आपकी सारी मेहनत की कमाई यह साइबर् ठग कुछ मिनटों में ही गायब कर सकते हैं। इसके साथ ही आमजन को साइबर हेल्पलाइन 1930 के बारे में जागरूक करते हुए उन्होंने बताया कि यदि किसी के साथ साइबर ठगी की वारदात घटित हो जाती है तो वह तुरंत इस नंबर पर संपर्क करें और उन्हें अपने साथ हुई साइबर ठगी के बारे में जानकारी दें। साइबर टीम द्वारा साइबर अपराधियों के बैंक खातों को फ्रीज करवाकर आपकी रकम आप तक वापस पहुंचा सकते हैं। कार्यक्रम में मौजूद सभी नागरिकों ने पुलिस टीम द्वारा साइबर अपराध के बारे में दी गई जानकारी के लिए पुलिस टीम का तहे दिल से धन्यवाद किया।