अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में गोल्ड मैडल जीत फरीदाबाद की बेटियों ने शहर को किया गौरवान्वित

0
94

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : शहर के सेंट एंथोनी में पढ़ने वाली रिद्धिमा और विधिका ने किक बॉक्सिंग की अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर न केवल अपने स्कूल का बल्कि पूरे फरीदाबाद का नाम रोशन किया है। गोल्ड मैडल जीतने के बाद बच्चियों के सम्मान में सेंट एंथोनी स्कूल में एक स्वागत समारोह का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में शहर के प्रमुख लोगों ने भाग लेते हुए दोनों बहनों के उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दीं।
दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित इंडियन इंटरनेशनल किकबॉक्सिंग प्रतियोगिता में दुनिया भर से आए बच्चों ने भाग लिया था। जिसमे सेंट एंथोनी स्कूल की तरफ से 7 – 9 साल के एज ग्रुप में विधिका तथा 10- 12 साल के एज ग्रुप में रिद्धिमा ने गोल्ड मेडल जीत स्कूल का नाम रोशन किया।
समारोह में सेंट एंथोनी स्कूल की प्रिंसिपल सिस्टर शिवा ने सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि खेलों से बच्चों का सर्वांगीन विकास होता है, इसलिए बच्चों को पढ़ाई के साथ साथ खेलकूद में भी अहम भूमिका निभानी चाहिए। स्कूल के लिए यह गौरव को बात है कि जब दो सगी बहनों ने गोल्ड मैडल जीतकर इलाके का नाम रोशन किया।
आपको बता दें विधिका और रिद्धिमा दोनों बहनें हैं तथा इनके पिता सुरेंद्र कुमार कौशिक शहर के जाने माने समाजसेवी हैं। जिन्होंने हाल ही में अपनी इंसानियत संस्था की ओर से बीके हॉस्पिटल में शुद्ध रसोई की शुरुआत कर पुनीत कार्य किया है। जिसमें रोगियों के लिए मुफ्त भोजन उपलब्ध कराया जाता है तथा तीमारदारों के लिए 10 रुपए में भोजन मिलता है। इस।मौके पर बेटियों को सफलता से गदगद कौशिक ने कहा कि जब लड़कियां ऐसे खेलों में अपना बेहतरीन प्रदर्शन कर सकती हैं जिन्हें केवल पुरुषों का खेल बताया जाता हैं, ऐसे में ये दोनों बहनें लड़कियों के लिए प्रेरणाश्रोत बनती हैं। इस मौके पर दोनों पुरुस्कार विजेता बहनों की दादी एवं समाजसेविका रामवती ने बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने हमेशा से ही बच्चियों को निडर बनाने पर जोर दिया।
आमतौर पर मारपीट के खेल जैसे बॉक्सिंग को पुरुषों का खेल कहा जाता है लेकिन हरियाणा की बेटियों ने इस भ्रम को भी तोड़ दिया है। इस मौके पर दोनों बच्चियों की माताजी ऋतु कौशिक ने बताया कि पहले दोनों ने नेशनल में गोल्ड मेडल हासिल किया और अब इंटरनेशन में गोल्ड जीतकर परिवार का नाम रोशन किया है। आगे ये बच्चियां ओलंपिक की तैयारी कर रही हैं।