डीसीपी डॉ.अंशु सिंगला वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों को सिखा रही योग, पुलिसकर्मियों के आत्मविश्वास को मिलेगा बल

0
259
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : कोरोना महामारी मनुष्य के शरीर के साथ-साथ उनके आत्मविश्वास को भी गहरी चोट पहुंचा रहा है। कोरोना संक्रमित जल्द ही आत्मविश्वास खो देता है जिसकी वजह से उसे महामारी अपने शिकंजे में और अधिक जकड़ लेती है।
इसी को ध्यान में रखते हुए डीसीपी एनआईटी डॉ अंशु सिंगला ने कोरोना संक्रमित हुए पुलिसकर्मियों को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से योग सिखाकर उनके आत्मविश्वास को बढ़ाने में अहम योगदान दे रही हैं।
डॉ.अंशु सिंगला का मानना है कि योग और प्राणायाम से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाई जा सकती है और इससे लोगों में आत्मविश्वास भी बढ़ता है। इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए योग से बढ़कर कुछ नहीं हैं। इससे बीमारियों से लडऩे की ताकत मिलती है।
श्रीमती अंशु सिंगला ने संक्रमित हुए पुलिसकर्मियों को डांस गतिविधि और लाफ्टर थेरेपी द्वारा इम्यून सिस्टम बढ़ाने के तरीके बताए तथा उनके जल्द ठीक होने की शुभकामनाएं दी।
डॉ अंशु सिंगला स्वयं कोरोना संक्रमित हो चुकी थी परंतु योग के माध्यम से उन्होंने कोरोना को हरा दिया और अब बिल्कुल स्वस्थ हैं।
डॉ. अंशु सिंगला ने कोरोना संक्रमित होने के बाद भी अपना हौंसला नहीं छोड़ा जिसका परिणाम यह निकला कि वो कोरोना को मात देकर अपनी ड्यूटी पर वापिस भी आ चुकी है।
अब उन्होंने अपने अधीनस्थ पुलिसकर्मियों को भी योग के माध्यम से ठीक करने का फैसला किया है।
डीसीपी एनआईटी सर्व समृद्धि योगा सेंटर से प्रोफेशनल योगा ट्रेनर कुमारी प्रियंका सिन्हा की सहायता से योग सिखाने का कार्य कर रही है।
सर्व समृद्धि योगा सेंटर महामारी के समय में देश सेवा में समर्पित पुलिसकर्मियों को निशुल्क योगा सिखाने का सराहनीय कार्य कर रहा है।
कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों का आत्मविश्वास बढ़ाते हुए उन्होंने पुलिसकर्मियों की हौसला अफजाई की। उन्होंने कहा कि आप सभी ने अपने कर्तव्यों से बढ़कर समाज की सेवा करने का सराहनीय कार्य किया है जिसके लिए उन्हें अपने आप पर गौरवान्वित होना चाहिए।
उन्होंने कहा कि किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए सबसे अहम किरदार अपने अंदर के आत्मविश्वास का होता है। यदि इंसान अपना हौसला बनाए रखें और कठिन परिश्रम करें तो किसी भी चुनौती को आसानी से पार किया जा सकता है।
पुलिस कर्मियों को उनके ट्रेनिंग के समय की याद दिलाते हुए डीसीपी मैडम ने कहा कि ट्रेनिंग के वक्त पुलिसकर्मियों ने कठिन परिश्रम और हौसले की बदौलत ट्रेनिंग में दिए गए कठिन से कठिन लक्ष्य को प्राप्त करके इस वर्दी को पहना था।
उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग समय के उस कठिन परिश्रम के सामने कोरोना से यह लड़ाई कुछ भी नहीं है। आत्मविश्वास और योग के माध्यम से आप कोरोना का आसानी से हरा सकते हैं।
अपनी टीम का हौसला बढ़ाने के लिए श्रीमती अंशु सिंगला कोरोना संक्रमण के दौरान अपने अनुभव साझा किए और बताया कि कैसे योग के माध्यम से उन्होंने कोरोना को मात दी थी।
उन्होंने एकांत में रहकर मैडिटेशन किया व सकारात्मक विचार प्रदान करने वाली मोटिवेशनल वीडियो देखी तथा
पुस्तकों को पढा जिससे उनके अंदर आत्मविश्वास का संचार हुआ।
उन्होंने पुलिस कर्मियों से कहा कि कोरोना से इस लड़ाई में खुश रहना अति आवश्यक है इसलिए आप खुश रहने के लिए किसी भी प्रकार की रचनात्मक गतिविधि कर सकते हैं जिसमें डांस करना, गाना गाना, फिल्म या कॉमेडी वीडियो मैं ऐसे किसी का भी चयन कर सकते हैं।
इसी प्रकार प्रेरणादायक संदेश देकर डीसीपी एनआईटी डॉ अंशु सिंगला ने पुलिसकर्मियों के जल्द ठीक होने की कामना की।