हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा राज्य स्तरीय बाल महोत्सव का किया आयोजन

0
277
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 20 जनवरी। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा हर वर्ष की भांति आज बुधवार को राज्य स्तरीय बाल महोत्सव का आयोजन किया गया। कोविड-19 के चलते यह आयोजन इस बार ऑनलाइन किया गया।
हरियाणा के परिवहन एवं खनन मंत्री पण्डित मूलचन्द शर्मा ने कहा कि यह जानकर बेहद हर्ष हुआ कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा प्रदेश भर में जिला स्तर पर आयोजित 23 प्रकार की प्रतियोगताओं में एकल व समूह सहित कुल 73 प्रतियोगिताओं में विभिन्न वर्गों में प्रदेश भर के 4 लाख, 96 हजार 850 बच्चों ने भाग लेकर कीर्तिमान रच दिया है। जिसमें 1 लाख 30 हजार 959 प्रतिभागी बालकों व 3 लाख 4 हजार 3 प्रतिभागी बालिकाओं ने भाग लिया। बालिकाओं ने बालकों से लगभग 3 गुणा अधिक प्रतिभागिता कर बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के नारे को चरितार्थ किया है।
 इस अवसर पर हरियाणा के परिवहन मंत्री ने कहा कि वे बल्लभगढ़ विधानसभा में भी एक मिनी बाल भवन का निर्माण करवाने के लिए प्रयास करेंगे। ताकि यहां पर भी बच्चे सरकारी सुविधाओं का लाभ लेकर अपने भविष्य निर्माण में चार चांद लगा सके। ऑनलाइन बाल महोत्सव की धूम प्रदेश के साथ-साथ देश और पूरे विश्व में रही। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद ने वैश्विक महामारी आपदा को अवसर के रूप में बदलते हुए बच्चों को विश्व स्तरीय मंच प्रदान किया। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के प्रयास बाल कल्याण के क्षेत्र में बेहद सराहनीय और अनुकरणीय है। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद ने ऑनलाइन राज्य स्तरीय बाल महोत्सव के माध्यम से बच्चों के सपनों को उड़ान देते हुए विश्व स्तरीय मंच प्रदान किया और यह भरोसा दिलाया कि हालात कितने भी कठिन क्यों न हो लेकिन हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद इसी प्रकार बच्चों के कल्याण के लिए पूरी तरह प्रयासरत रहेगी। परिवहन मंत्री पण्डित मूलचन्द शर्मा ने हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के कुशल नेतृत्वकर्ता कृष्ण ढुल और सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को इस ऐतिहासिक उपलब्धि और सराहनीय कार्य की बधाई दी। वही सभी विजेता और प्रतिभागी बच्चों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि भविष्य में भी प्रदेश और देश का नाम रोशन करते रहें।
हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद् 1971 में अस्तित्व में आई। यह एक स्वैच्छिक संस्था है। जिसके प्रधान प्रदेश के महामहिम राज्यपाल होते हैं और उपप्रधान प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री होते हैं। वर्तमान में प्रधान के रूप में महामहिम राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य व उप प्रधान के रूप में माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल पद को सुशोभित कर रहे हैं।