लिंग्याज ने कावरा गांव में जाकर सिखाएं योग के गुर

0
81

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : लिंग्याज विद्यापीठ (डीम्ड-टु-बी यूनिवर्सिटी) ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य पर कॉलेज परिसर में शिक्षकों व छात्रों को योग के गुर सिखाएं। इतना ही नहीं इस खास मौके पर विद्यापीठ ने कावरा गांव के राजकिय प्राथमिक विद्यालय में जाकर बच्चों व उनके परिजनों को योग सिखाने के साथ-साथ उसके महत्व को भी बताया। इस दौरान सभी ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। स्कूल ऑफ एजुकेशन डिपार्टमेंट की HOD डॉ. गुरविंदर एहलुवालिया ने बताया कि गांव में जाकर वहां के लोगों व सरपंच श्री केशव भारद्वाज ने बहुत स्पोर्ट किया। योग दिवस भारत की संस्कृति द्वारा दुनिया को दिया गया एक अनमोल उपहार है। योग एक ऐसी कला है, जो विश्वभर में लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागृत करता है। लोगों में शांति और सद्भाव कायम करने के लिए योग एक बेहतरीन अभ्यास है। हर वर्ष अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है। जिसकी शुरूआत भारत में 21 जून 2015 में हुई थी।

वाइस चांसलर प्रो (डॉ). जी.जी. शास्त्री का कहना है कि करोड़ों लोग योग का महत्व समझते हुए उसे अपने जीवन में ढालने की कोशिश कर रहें है। जीवन में अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति अवश्य होनी चाहिए। योग का महत्व हर किसी को समझना चाहिए और उसे अपने जीवन में एक सामान्य कार्य के रूप में अपनाना भी चाहिए।