एचएसवीपी कन्वेशन सैंटर में जिला के टॉप 50 सीएसआर उद्यमियों के साथ की मीटिंग

0
220

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 10 अप्रैल। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि सबका साथ-सबका विकास  के मूल मंत्र को मूर्त रूप देने में कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) प्रतिनिधियों की एक अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका है। इनके द्वारा किए गए शानदार प्रयासों से जनहित में अनेकों विकास कार्यों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। प्रदेश में सीएसआर के पैसे को बेहतरीन ढंग से प्रयोग करने के लिए हम इसके लिए एक ट्रस्ट का गठन भी करेंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल शनिवार को एचएसवीपी कन्वेंशन सैंटर, सेक्टर-12 में स्मार्ट सिटी के संबंध में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।
मुक्चयमंत्री ने कहा कि देश की आजादी के बाद बने संविधान में जहां हमें अधिकारों से अवगत कराया वहीं हमें अपने कर्तव्यों के बारे में भी जानकारी दी। इसके अंतर्गत प्रत्येक नागरिक को जागरूक नागरिक बनकर एक जिम्मेदार नागरिक की भूमिका का निर्वाह करना चाहिए ताकि वह स्वच्छ भारत मिशन जैसे अभियानों को सफल बनाने में अपना यथासंभव यथाशक्ति योगदान दे सके। उन्होंने कहा कि इसी क्रम में इंडियन आयल द्वारा आज शहर के स्वच्छता अभियान को सफल बनाए जाने के संबंध में दिए गए सीएसआर का सहयोग एक सराहनीय कदम है। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले समय में फरीदाबाद अपने नए मेगा प्रोजेक्ट के चलते देश-दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाएगा। जो विकास के क्षेत्र में अन्य प्रदेशो के लिए भी एक प्रेरणा व मिसाल होगा। अवसर पर उपायुक्त एवं नगर निगम आयुक्त यशपाल ने नगर निगम, स्मार्ट सिटी एवं विभिन्न कम्पनियों के सहयोग से सँयुक्त रूप से चलाई जा रही सीएसआर गतिविधियों एवं प्रोजेक्टों के बारे जानकारी देते हुए बताया कि सभी के सांझा प्रयासों से जहां एक ओर शहर में साफ-सुथरा रखने की गतिविधिया तेज हुई है। वहीं सीएसआर के सहयोग से वेस्ट मैनेजमेंट व अन्य पदार्थों के निर्माण के उपरांत इसका सदुपयोग बढ़ाकर इस संबंध में लोगों को मिलकर जागरूक किया जा रहा है। कार्यक्रम के दौरान इंडियन ऑयल आरएंडडी सेंटर के निदेशक एसएसवी रामा कुमार ने इंडियन ऑयल व इससे जुड़ी कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी के संबंध में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए अपने बताया कि इंडियन आयल अनुसंधान एवं विकास केन्द्र का 65 एकड़ में फैला हुआ उर्जा के क्षेत्र में एशिया का सबसे बड़ा केंद्र है। जिसमें राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर के 300 से अधिक वैज्ञानिक कार्यरत हैं। जो कि 5 टन बायोमेथेन प्लांट जोकि किचन वेस्ट से गैस मे कन्वर्ट होता है। जिसे मिड डे मील के लिए प्रयोग में लाया जाता है। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा अन्य गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में स्वच्छता अभियान हेतु इण्डियन आयल द्वारा दी गई 26 ई-वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया किया व पौधरोपण भी किया। मुख्यमंत्री ने स्वच्छ फरीदाबाद स्मार्ट फरीदाबाद नामक सॉन्ग भी लांच किया। इसके साथ ही बिटवीन एमसीएफ एवं जनाग्रह सेंटर फॉर सिटीजनशिप एंड डेमोक्रेसी के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर भी किए गए। इस अवसर पर केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर, परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा, फरीदाबाद के विधायक नरेंद्र गुप्ता, विधायक, बडख़ल से विधायक सीमा त्रिखा, तिगांव से विधायक राजेश नागर, पृथला से विधायक नयनपाल रावत, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार अजय गौड़, महापौर सुमन बाला, भाजपा जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा, वरिष्ठ उपमहापौर देवेंद्र चौधरी, उपमहापौर मनमोहन गर्ग, मंडलायुक्त संजय जून, पुलिस आयुक्त ओपी सिंह, उपायुक्त एवं नगर निगम आयुक्त यशपाल, अतिरिक्त उपायुक्त सतबीर मान, एसडीएम बडख़ल पंकज सेतिया, एसडीम फरीदाबाद परमजीत चहल, संपदा अधिकारी जितेंद्र कुमार, मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी रुपाला सक्सेना, स्वच्छता के क्षेत्र में श्रेष्ठ कार्य करने वाले इंद्रजीत कुल्हडिय़ा सहित उद्योग एवं सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।