झूठी शिकायत देकर पुलिस को गुमराह करने वालो के खिलाफ फरीदाबाद पुलिस की कार्यवाही लगातार जारी

0
25

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : डीसीपी क्राइम मुकेश कुमार मल्होत्रा द्वारा झूठी शिकायत देकर पुलिस को गुमराह करने तथा पुलिस तथा अदालत का कीमती समय बर्बाद करने के मामले में झूठी शिकायत देने वालों खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के दिशा निर्देश के तहत कार्यवाही करते हुए फरीदाबाद पुलिस द्वारा बीते 6 महीनों में झूठी शिकायत देने वाले 122 आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 182 के तहत करवाई की जा चुकी है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि क्राइम ब्रांच 48 प्रभारी राकेश कुमार की टीम ने ऐसे ही एक झूठे मामले का पर्दाफाश करते हुए लूट के झूठे मुकदमे में अपने आप को पीड़ित बताने वाले आरोपी के खिलाफ झूठी शिकायत देने का मुकदमा दर्ज किया है। उन्होंने बताया कि झूठी शिकायत देने वाले आरोपी का नाम कुणाल है जो सूरजकुंड के चार्मवुड विलेज का रहने वाला है। दिनांक 1 अगस्त 2022 को कुणाल ने क्राइम ब्रांच 48 प्रभारी राकेश कुमार को बताया कि उसने रैपीडो के जरिए 31 जुलाई को एक मोटरसाइकिल राइड बुक की थी जो उसे लेकर शूटिंग रेंज के रास्ते होते हुए सूरजकुंड आ रहा था तो रास्ते में बाइक चालक ने पेशाब के बहाने मोटरसाइकिल रोकी और किसी को फोन करने लगा। इसी दौरान वहां पर दो मोटरसाइकिल पर 4 लड़के आए जिन्होंने कुणाल के साथ मारपीट करके उसका मोबाइल फोन, पर्स तथा स्मार्ट वॉच छीन ली और वहां से फरार हो गए। पीड़ित कुणाल ने रैपीडो मोटरसाइकिल चालक तथा अन्य चार लड़कों पर लूट का इल्जाम लगाया जोकि पुलिस जांच में झूठे पाए गए जिसके लिए आरोपी कुणाल के तहत 182 आईपीसी के तहत करवाई की गई है।

दूसरा मुकदमा क्राइम ब्रांच 85 प्रभारी जोगिंदर सिंह की टीम द्वारा दर्ज किया गया है जिसमें आरोपी ने अपने आप को पीड़ित बताकर अपनी मोटरसाइकिल की चोरी का झूठा मुकदमा दर्ज करवाया था। पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि झूठी शिकायत देने वाले आरोपी का नाम देवेंद्र है जो बल्लभगढ़ के सुनपेड़ गांव का रहने वाला है दिनांक 11 सितंबर 2021 को देवेंद्र ने पुलिस थाना आदर्श नगर बल्लभगढ़ में एक झूठा मुकदमा दर्ज करवाया कि उसकी बुलेट मोटरसाइकिल चोरी हो गई है जबकि पुलिस जांच में सामने आया कि देवेंद्र ने अपनी मोटरसाइकिल मनोज नाम के व्यक्ति को बेच दी थी और उसकी चोरी का झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया। इसलिए आरोपी देवेंद्र के खिलाफ झूठी शिकायत देने की कार्रवाई की गई है।

तीसरा मामला क्राइम ब्रांच 65 प्रभारी ब्रह्म प्रकाश की टीम ने भी ऐसे ही एक झूठे मुकदमे का पर्दाफाश किया है जिसमे आरोपी का नाम नवीन है जिसकी ग्रेटर नोएडा में एमपी ऑटो मोबाइल नाम से कंपनी है जो फरीदाबाद से निशा कास्टिंग के मालिक जयपाल से अपनी कंपनी का ऑटो पार्ट्स का सामान खरीदता है। दिनांक 11 जून को नवीन ने पुलिस थाना सदर बल्लभगढ़ में आकर शिकायत दी कि 10 जून की रात जयपाल व उसके साथी नीटू ने गांव दयालपुर के पास उसकी गाडी के आगे अपनी गाडी लगाकर उनकी गाडी छीन ली तथा उनका अपहरण करके 10 लाख रुपये लूट लिए। क्राइम ब्रांच की टीम ने शिकायतकर्ता नवीन से गहनता से पुछताछ की जिसमे सामने आया कि नवीन द्वारा दी गई शिकायत झूठी है। नवीन ने बताया कि वह फरीदाबाद से जयपाल की कंपनी से कुछ सामान लेकर जा रहा था परंतु उसने बाद में पैसे देने की बात कही पर जयपाल ने उसकी बात नहीं मानी और सामान वापिस उतरवा लिया। इसी बात का बदला लेने के लिए नवीन ने जयपाल व उसके साथी के खिलाफ झूठी शिकायत दी थी। नवीन ने बताया कि उसके 10 लाख रुपए नोएडा में उसके मकान में सुरक्षित हैं। इसके पश्चात आरोपी की निशानदेही पर नोएडा के उसके मकान से 10 लाख रुपए बरामद किए गए। इस मामले में नवीन द्वारा लगाए गए इल्जाम झूठे पाए गए। पुलिस ने नवीन के खिलाफ झूठी शिकायत देखकर पुलिस को गुमराह करने तथा पुलिस तथा अदालत का समय बर्बाद करने के जुर्म में भारतीय दंड संहिता की धारा 182 के तहत नवीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस आयुक्त द्वारा झूठी शिकायत देकर किसी निर्दोष को सजा दिलाने वाले तथा पुलिस तथा अदालत का वक्त बर्बाद करने वालों के खिलाफ कानून के तहत सख्त से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इस प्रकार की झूठी शिकायतों को वजह से निर्दोष व्यक्ति को बहुत सारी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है और उसे कोर्ट कचहरी के चक्कर काटने पड़ते हैं। किसी निर्दोष व्यक्ति को इसकी वजह से हानि न पहुंचे तथा समय की बर्बादी न हो इसीलिए झूठी शिकायत देने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। नवीनतम आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2022 में फरवरी से जुलाई तक 6 महीनों में झूठी शिकायत देने वालों के खिलाफ 122 मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं जिसमे फरवरी के 15, मार्च के 25, अप्रैल के 19, मई के 25, जून के 21 तथा जुलाई के 17 मुकदमे शामिल है। पुलिस आयुक्त ने कड़े शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा है कि कोई भी व्यक्ति अपने फायदे के लिए इस प्रकार की हरकत ना करें अन्यथा कानूनी कार्रवाई की जाएगी।