एनआईटी एरिया में जिम ट्रेनर व युवती हत्याकांड में शामिल चारों आरोपियों को सीआईए डीएलएफ ने किया गिरफ्तार

0
475
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : एसीपी हेडक्वार्टर श्री आदर्शदीप सिंह ने प्रेस वार्ता के दौरान हत्याकांड मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी के बारे में खुलासा करते हुए बताया कि 16 फरवरी को NIT एरिया में हुए जिम ट्रेनर व युवती हत्याकांड मामले में पुलिस ने 4 आरोपियों प्रकाश उर्फ प्रिंस उर्फ पीके, लक्की उर्फ नोनू, भव्य उर्फ मुन्नू व कर्ण को गिरफ्तार किया है।
उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि मुख्य आरोपी पीके से महिला की दोस्ती टूट गई थी| युवती की जिम ट्रेनर लोकेश से दोस्ती हो गई थी| इसके चलते आरोपी प्रकाश ने जिम ट्रेनर व अपनी पूर्व महिला दोस्त की ह्त्या करने की साजिश रच डाली थी वारदात को अंजाम देने के लिए आरोपी ने अपने दोस्त लक्की ओर भव्य को शामिल किया और चौथे आरोपी मेरठ निवासी कर्ण से देशी पिस्टल लेकर आया और वारदात को अंजाम दे डाला|
हत्या करने से पहले मुख्य अरोपी प्रकाश उज्जैन के महाकाल मंदिर में मन्नत मांगने के लिए गया था कि इस हत्याकांड को अंजाम देने के बाद अगर पकड़ा नहीं गया तो वह दोबारा से उक्त मंदिर में दर्शन करने के लिए आएगा। लेकिन सीआईए डीएलएफ के द्वारा दर्शन करने से पहले ही आरोपी को पर्वतीय कॉलोनी से गिरफ्तार कर लिया।
वारदात को अंजाम देने के लिए मुख्य आरोपी प्रकाश एक देशी पिस्टल आरोपी कर्ण से मेरठ से लेकर आया था|
16 फरवरी 2021 की शाम युवती स्कूटी लेकर अपने घर से निकली। आरोपी प्रकाश और लक्की अपनी स्कूटी पर युवती का उसके घर से ही पीछा करते हुए 1 नंबर मार्किट में गए। कुछ समय पश्चात् युवती से मिलने गोल्डी उर्फ लोकेश भी अपनी स्विफ्ट गाड़ी लेकर वहां आ गया था।
युवती और लोकेश गाड़ी में बैठकर बात कर रहे थे। दोनों को गाड़ी में बैठा देखकर आरोपी प्रकाश ने दोनों को जान से मारने के इरादे से अपने दोस्त भव्य को फोन करके अपने घर पर रखी पिस्टल वहाँ मंगवाई|
इसके बाद भव्य स्कूटी पर पिस्टल लेकर आया और इसे प्रकाश को दे दी। प्रकाश पिस्टल लेकर गोल्डी की गाड़ी में घुस गया तथा लक्की व भव्य गाड़ी के पास खड़े होकर निगरानी करने लगे।
तभी आरोपी प्रकाश उनकी गाड़ी की खिड़की खोलकर फुर्ती से पिछली सीट पर बैठ गया और जिम ट्रेनर से बहस बाजी हुई और आरोपी ने योजनानुसार गाड़ी में ही गोल्डी के सिर और मयंका की छाती में गोली मारकर उनकी हत्या कर दी और तीनो आरोपी मौके से फरार हो गए।
गोल्डी और मयंका दोनों को घायल अवस्था में सरकारी हस्पताल में भर्ती करवाया गया जहाँ दोनों को मृत घोषित कर दिया गया।
लड़की के परिजनों की शिकायत पर थाना कोतवाली में आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 34, 302, 354डी, 120बी व आर्म्स एक्ट की धारा 25-54-59 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया और आरोपियों की तलाश शुरू कर दी गई।
पुलिस आयुक्त श्री ओपी सिंह ने मामले में तुरंत संज्ञान लेते हुए आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ने के निर्देश दिए। पुलिस उपायुक्त अपराध श्री मुकेश मल्होत्रा व सहायक पुलिस आयुक्त-अपराध श्री अनिल कुमार के दिशा-निर्देशों पर कार्य करते हुए क्राइम ब्रांच डीएलएफ प्रभारी उप-निरीक्षक अनिल कुमार की अगुवाई में टीम का गठन किया गया और मामले की जाँच शुरू कर दी।
पुलिस टीम ने घटनास्थल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले और साइबर तकनीक व गुप्त सूत्रों की सूचना के आधार पर दिनांक 21 फरवरी 2021 को आरोपी प्रकाश तथा लक्की को पर्वतीय कॉलोनी, भव्य तथा कर्ण को एनआईटी-3 से गिरफ्तार कर लिया गया।
आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयोग दोनों स्कूटी बरामद की गई है।
आरोपी प्रकाश उर्फ प्रिंस उर्फ पीके पुत्र अशोक, लक्की उर्फ नोनू पुत्र पृथ्वी, भव्य उर्फ मुन्नू पुत्र राजकुमार तीनो एनआईटी-3 के रहने वाले हैं। वहीँ आरोपी कर्ण पुत्र हरीश मेरठ का रहने वाला है|
आरोपियों को अदालत में पेश करके हत्या के मुख्य आरोपी प्रकाश को 3 दिन के पुलिस  रिमांड पर लिया गया है जिसमें उससे वारदात में प्रयोग की गई पिस्टल बरामद की जाएगी|