स्वच्छ फरीदाबाद-सुंदर फरीदाबाद के लिए सभी को मिलकर आगे बढऩा होगा : यशपाल

0
97

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 2 अप्रैल। उपायुक्त एवं नगर निगम कमिश्नर यशपाल ने कहा कि फरीदाबाद शहर में मौजूदा समय में कूड़ा प्रबंधन हमारे लिए एक सबसे बड़ी समस्या है। फिलहाल हम 40 प्रतिशत घरों के कूड़े को ही घर-घर जाकर इकट्ठा कर पा रहे हैं। वहीं सीवरेज व्यवस्था को भी हम बेहतर ढंग से नहीं संभाल पा रहे हैं। ऐसे में हम ठोस व तरल कूड़ा प्रबंधन को लेकर सरकारी अधिकारीयों-कर्मचारियों, उद्योगपतियों, सीएसआर, सामाजिक धार्मिक व शैक्षणिक क्षेत्र से जुड़े लोगों के साथ मिलकर एक साझा प्रयास के तहत काम करना होगा। वह शुक्रवार को सेक्टर-12 एचएसवीपी कन्वेंशन सेंटर में अधिकारियों, व्यापारियों व सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ मिलकर स्वच्छ फरीदाबाद-सुंदर फरीदाबाद विषय पर मंत्रणा कर रहे थे।
निगमायुक्त एवं उपायुक्त ने कहा कि हमारा पहला प्रयास शहर को कूड़ा मुक्त बनाना है। हम नगर निगम के अपने संशाधनों को इसके लिए मजबूत करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पास मौजूदा समय में सबसे बड़ी समस्या कूड़ा घर-घर से उठाने के लिए वाहनों की है। इस कमी को हम सीएसआर स्कीम के तहत और लोगों के सहयोग से पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि आईओसीएल इस काम के लिए सबसे पहले आगे आई है और उन्होंने 24 लाख रुपये की लागत से 25 ई-रिक्शा नगर निगम को मुहैया करवाने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही सीवर सफाई के लिए एक रोबोटिक मशीन के लिए भी आईओसीएल ने देने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में हमारे पास 230 वाहन हैं और हमें 450 से ज्यादा वाहनों की मौजूदा समय में आवश्यकता है।
शहर में ठोस कूड़ा प्रबंधन को लेकर नगर निगम की योजना के संबंध में बताते हुए उन्होंने कहा कि सभी 40 वार्डों में अलग-अलग अधिकारियों को निगरानी के लिए नियुक्त किया गया है। हम अब प्रत्येक वार्ड में एक उद्योग, सामाजकि संस्था, ठेकेदार कंपनी व कुछ दूसरे लोगों को मिलाकर एक ऐसा तंत्र विकसित करेंगे जिससे वह स्वयं निर्णय ले सकें। स्कूलों में विद्यार्थियों को जागरूक करेंगे कि वह अपने घर जाकर बताएं कि सूखा कचरा व गीला कचरा अलग-अलग करने के क्या फायदे हैं। उन्होंने ठोस व तरल कूड़ा प्रबंधन को लेकर नगर निगम की विभिन्न योजनाओं से भी मीटिंग में अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन 50 किलोग्राम से ज्यादा कूड़ा इकट्ठा करने वालों को खुद इसके निस्तारण की व्यवस्था भी करनी होगी। उन्होंने सभी से आवाहन किया कि शहर के साफ करने में मदद करें। मीटिंग में सभी उद्योगपतियों व अन्य लोगों ने भी ठोस व तरल कूड़ा प्रबंधन को लेकर अपने विचार भी सांझा किए। मीटिंग में एसडीएम परमजीत चहल, एसडीएम बडख़ल पंकज सेतिया, सीएमजीजीए सहित नगर निगम के अधिकारी भी मौजूद थे।