पुलिस कमिश्नर ने की अधिकारियों के साथ मासिक अपराध बैठक, लंबित मामलों का लक्ष्य निर्धारित कर समयबद्ध निपटारा करने का दिया आदेश

0
181
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : फ़रीदाबाद पुलिस मुख्यालय स्तर पर आयोजित मासिक क्राइम मिटिंग में पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह ने सभी पुलिस अधिकारियों व थानाध्यक्षों को अपराध नियंत्रण से जुड़े तथ्यों, आंकड़ों के साथ कई अहम बिन्दुओं को साझा करते हुए योजनाबद्ध एवं रचनात्मक ढंग से जमीनी स्तर पर पुलिस सक्रियता बढ़ाने का निर्देश दिया। साथ ही अच्छे कार्यों के लिए पुलिस की सराहना करते हुए कहा कि आमजनों में पुलिस की छवि सुधरने के साथ जनहित के कार्यों में सफल भागीदारी के लिए पुलिस के प्रति जनसाधारण की विश्वसनीयता बढ़ी है।
उन्होंने कहा कि लंबित मामलों का निश्चित समय-सीमा में प्रभावी निष्पादन करना महत्वपूर्ण है।  इसके लिए वाद (केस) के अनुसंधान में प्रगति की समीक्षा करते हुए इसे ससमय पूरा कर न्यायालय में आरोप-पत्र दाखिल करने का निर्देश दिया। जघन्य अपराधों में उद्घोषित आरोपियों को वांछितों की सुची में जोड़ने के साथ, इसकी गिरफ्तारी के लिए हर संभव प्रयास करना अतिआवश्यक है। PO और Bail Jumper जेल से छूटे तथा जमानत पर रिहा हुए पेशेवर अपराधियों पर शिकंजा कसने के लिए पूरी सजगता के साथ उसके आपराधिक सक्रियता पर नजर बनाये रखते हुए कारवाई करने का आदेश दिया। स्थानीय एवं विशेष अधिनियम से जुड़े अवैध जुआ अड्डा संचालन, सट्टेबाजी के अलावा, नशा निरोधक अधिनियम एंव स्नैचिंग इत्यादि के अंतर्गत दर्ज मामलों का पूरी तत्परता से निष्पादन का आदेश दिया।
पुलिस कमिश्नर ने राज्य पुलिस मुख्यालय एवं सरकार के शासनादेश से प्राप्त जन शिकायत आवेदन के निष्तारण के लिए संबंधित थाना क्षेत्र के अधिकारियों के बजाय, किसी अन्य पुलिस अधिकारियों से विषय की जाँच कर विधि-सम्मत कारवाई सुनिश्चित किये जाने का आदेश दिया है। जन सुनवाई के लंबित आवेदनों का प्राथमिकता के आधार पर निपटारा करते हुए पुलिस को अनुशासनात्मक रूप से विनम्र तथा बेहतर पुलिसिंग के प्रति समर्पित भाव से कार्य करने के संबंध में भी कई सुझाव दिये।
राज्य पुलिस मुख्यालय से प्राप्त निर्देशों का अनुपालन करते हुए वरीय पुलिस अधिकारियों को क्रमवार अपने क्षेत्र से संबंधित सभी पुलिस थानो का साप्ताहिक औचक निरीक्षण सुनिश्चित करने के साथ अपराध के आंकड़ो की समीक्षा करने का आदेश दिया है।
कोरोना के बढ़ते हुए केसों को देखते हुए उन्होंने कहा कि हमें परिंदे भी बचाने हैं और तीर भी चलाने हैं।
लोगों को मास्क पहनने के लिए प्रेरित भी करना है और उल्लंघन करने वालों के सरकार के निर्देशानुसार मास्क ना लगाने के चालान भी करने हैं।
कोरोना महामारी के दूसरे लहर की व्यापकता को देखते हुए संभावित रोकथाम के लिए मानवीय पहल पर चर्चा करते हुए श्री ओपी सिंह ने पुलिसकर्मियों को भीड़-भाड़ वाले संवेदनशील स्थानों पर मास्क पहनने की अनिवार्यता का नियमित चेकिंग का आदेश दिया। साथ ही, पुलिसकर्मियों व अधिकारियों को आपस में व्यवस्थित तालमेल बनाते हुए पुलिसिंग के सुचारू कार्यान्वयन के लिए प्रेरित करने वाला विचार अभिव्यक्त किया।