पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ करते हुए दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

0
228
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : पुलिस चौकी दयालबाग प्रभारी उप निरीक्षक विनोद कुमार की टीम ने फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ करते हुए 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
गिरफ्तार किए गए आरोपियों में जावेद खान और यासीन का नाम शामिल है।
चौकी प्रभारी उप निरीक्षक विनोद कुमार को गुप्त सूत्रों की सहायता से सूचना मिली थी कि लक्कड़पुर मार्केट के अंदर अब्बास खान की बिल्डिंग में फर्जी कॉल सेंटर चल रहा है जिसमें लोगों को लॉटरी का लालच देकर उनके साथ धोखाधड़ी की जा रही है।
सूचना मिलते ही चौकी प्रभारी ने तुरंत प्रभाव कार्रवाई करते हुए टीम का गठन करके कॉल सेंटर पर जाकर रेड की और मौके से दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।
पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वह डाटा फॉर सेल वेबसाइट से ₹6000 में डाटा खरीदते थे जिसमें 3000 ग्राहकों का मोबाइल नंबर, नाम व पता शामिल होता था।
ग्राहकों का फोन नंबर प्राप्त होने के पश्चात वह ग्राहकों को फोन पर संपर्क करते थे और उन्हें बताया जाता था कि वह सर्च योर ड्रीम कंपनी से बात कर रहे हैं और उनके मोबाइल नंबर पर लकी ड्रा निकला है।
लकी ड्रॉ में ग्राहकों को महंगे-महंगे लैपटॉप, एलईडी, मोबाइल, कंप्यूटर जैसे महंगे महंगे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स के इनाम का लालच दिया जाता था।
इनाम लेने के लिए आरोपी ग्राहकों से पैसे डायरेक्ट अपने खातों में मंगवा लेते थे या उनकी बताई गई वेबसाइट पर जाकर लिवाइस कंपनी का कोंबो पैक खरीदने के लिए बोला जाता था जिसकी कीमत ₹3000 थी।
ग्राहक इनाम के लालच में फंसकर पैसा इनके अकाउंट में ट्रांसफर कर देते थे और जब इनाम में बताई गई आइटम के लिए इनको फोन किया जाता था तो आरोपी फोन उठाना बंद कर देते थे।
इस प्रकार इनके चंगुल में फंसकर बहुत से लोगों ने अपने पैसे गवा दिए।
आरोपियों के कब्जे से 7 मोबाइल फोन 13 लैंडलाइन फोन 11 कंप्यूटर, 1 प्रिंटर,1 पेन ड्राइव और 5 सिम कार्ड बरामद की गई हैं।
आरोपियों के खिलाफ दिनांक 24 मार्च 2021 को थाना सूरजकुंड में भारतीय दंड संहिता की धारा 420 और 406 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।
आरोपियों ने इससे पहले भी दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में बहुत से लोगों को ठगा है जिसके बारे में पुलिस अभी पूछताछ कर रही है।
आरोपी जावेद खान पुत्र सरीफ खान और आरोपी यासीन पुत्र फहीम दोनों मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के रहने वाले हैं।
दोनों आरोपियों को अदालत में पेश करके पुलिस रिमांड पर लिया गया है जिसमें उनसे पूर्व में की गई धोखाधड़ी के बारे में गहनता से पूछताछ करके बरामदगी की जाएगी।