शाही एक्सपोर्ट्स फ़रीदाबाद में दो दिवसीय ट्रेनिग देकर श्रमिको को किया जागरूक : सीमा

0
120

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 17 मार्च। दतोपंत ठेंगड़ी राष्ट्रीय श्रमिक शिक्षा एवम विकास बोर्ड फरीदाबाद के तत्वावधान में श्रम एवं रोजगार मंत्रालय भारत सरकार के सौजन्य से सेक्टर28 शाही एक्सपोर्ट फरीदाबाद में श्रमिकों के जागरूकता हेतु दो दिवसीय ट्रेनिग शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि बोर्ड के क्षेत्रीय निदेशक सीमा द्विवेदी मिश्रा ने शिविर का उदघाटन कर श्रमिक जागरूकता शिविर का शुभारम्भ किया। कार्यक्रम में बोर्ड के शिक्षा अधिकारी तिलकराज ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। विशिष्ट अतिथि के रूप में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के कानूनी सेवक एवम नेशनल अवार्डी व हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के लाइफ मेंबर दीपक कुमार मन्थन एवम कविता रहे। कार्यक्रम के संयोजन में शाही एक्सपोर्टस के निदेशक जेडी गिरी का विशेष सहयोग रहा । बोर्ड के क्षत्रिय निदेशक सीमा द्विवेदी मिश्रा ने बताया कि बोर्ड के द्वारा श्रमिको को क्वालिटी ऑफ लाइफ विषय पर ट्रेनिंग देकर जीवन जीने की कला की गुणवत्ता के बारे में बताया गया है। ताकि सभी श्रमिक अपने जीवन को सरलता से जीना सीखे। बोर्ड के शिक्षा अधिकारी तिलक राज ने कहा कि बोर्ड के द्वारा समय समय पर सरकार द्वारा श्रमिको के कल्याण हेतु चलाई जा रही भिन्न भिन्न योजनाओं की जानकारी देकर उन्हें जागरूक किया जाता है। जिसमे सभी को , सर्वोत्तम जीवन जीने की कला, सेल्फ हेल्प ग्रुप, सयुंक्त टूटते घर परिवार बचाना, नैतिक संस्कार, श्रमिको को रोजाना पौष्टिक आहार की जानकारी, सूचना का अधिकार अधिनियम, घरेलू हिंसा रोकथाम, श्रमिक पंजीकरण आदि की जानकारी दी गयी है। ताकि सभी श्रमिक सफल जीवन जीने की कला की पद्धति को अपनाएं। उन्हें इसलिए दो दिनों की प्रतिभागिता हेतु पांचसौ रुपये का मानदेय भी प्रदान किया जाता है। विशिष्ट अतिथि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से कानूनी सेवक व नेशनल अवार्डी दीपक कुमार मन्थन ने बताया कि प्राधिकरण द्वारा श्रमिको के लिए टूटते परिवारों को बचाने के लिए परिवार परामर्श केंद्रों के माध्यम से मुफ्त कानूनी सहायता प्रदान की जाती है। जिसमे की कोई भी व्यक्ति जिसकी सलाना आमदनी तीन लाख से कम हो, कोई भी महिला, कोई भी बच्चा, कोई भी वरिष्ठ नागरिक, कोई भी अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति, पिछड़े वर्ग, बीपीएल, मानसिक रोगी, मन्द बुद्धि, ओधोगिक क्षेत्रो के श्रमिकों, बाढ़ पीड़ित, भूकम्प पीड़ित, दंगा पीड़ित, स्वंतत्रता सेनानी या उनपर आश्रित परिवारों को मुफ्त कानूनी सहायता प्रदान की जाती है। सभी वो श्रमिक जो एक भवन को बनाने में काम करते है उन सभी का हरियाणा भवन सन्न निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकरण करवाना चाहिए। इससे एक वर्ष की पंजीकरण उपरांत पुनः पंजीकरण पर पंजीकृत श्रमिको को बच्चों को पढाने, शादी के लिए, इलाज के लिए, औजारों हेतु, रसोई समान के लिए, सिलाई मशीन, साइकिल ,हेतु अनुदान के रूप में सहयोग दिया जाता है। इस अवसर पर बोर्ड के द्वारा सभी श्रमिक प्रतिभागियों को मास्क व सेनिटाइजर भी निःशुल्क वितरण किये गए। वक्ता कविता ने सभी श्रमिको को कम आमदनी में घरेलू बचत के बारे में बताया। सयुंक्त परिवारों को बढ़ावा देने को कहा। श्रमिक ट्रेनिग शिविर के दूसरे दिन समापन समारोह में शाही एक्सपोर्ट के निदेशक जेडी गिरि ने भी बताया कि जीवन की गुणवत्ता परिवार में समन्वय होना चाहिये। तभी एक सफल परिवार व जीवन की कल्पना की जा सकती है। शाही एक्सपोर्ट के प्रबंधक बबिता चुघ ने भी विशेष सहयोग किया व श्रमिको को जीवन गुणवत्ता को अधिक अपनाने पर विचार किया। इस अवसर पर शिविर की अध्यक्षता कर रहे बोर्ड के शिक्षा अधिकारी तिलकराज, शाही एक्सपोर्टस के निदेशक जेडी गिरी, विशिष्ट वक्ता नेशनल अवार्डी दीपक कुमार मन्थन, कविता, शाही एक्सपोर्ट से बबिता चुघ, रविंदर जैन, शिवानी, संजय कपूर आदि स्टाफ के साथ काफी श्रमिक भी मौजूद रहे।