डी.ए.वी शताब्दी महाविद्यालय द्वारा किया गया श्लोकोच्चारण एवं संस्कृत गीत गायन प्रतियोगिता का आयोजन

0
235

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : डी.ए.वी शताब्दी महाविद्यालय फरीदाबाद द्वारा बसंत के रंग डी ए वी के संग के अंतर्गत संस्कृत विभाग द्वारा राष्ट्रस्तरीय अंतर्जालीय संस्कृत श्लोकोच्चारण एवं संस्कृत गीत गायन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता में भारतवर्ष के लगभग 15 राज्यों के 70 प्रतिभागियों ने अपना पंजीकरण करवाया। प्रतियोगिता की क्रियान्वन समिति मे संयोजक डॉ अमित शर्मा, संस्कृत विभागाध्यक्ष, पर्यवेक्षिका डॉ विजयवंती सहाचार्या एवं कला संकायाध्यक्षा, संरक्षिका डॉ सविता भगत, कार्यकारी प्राचार्या जी रहे। निर्णायक मंडल की भूमिका में डॉ पुष्पेंद्र जोशी, विभागाध्यक्ष, संस्कृत विभाग, पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला तथा डॉ अनिल कुमार प्राध्यापक दिल्ली सर्वकार रहे। विजेता प्रतिभागियों के नामों की घोषणा डॉ सुषमा अलंकार डी.ए.वी कॉलेज चंडीगढ़ ने अपने व्याख्यान के साथ की। इस प्रतियोगिता में प्रथम स्थान-सिमरन- इंद्रप्रस्थ महिला महाविद्यालय दिल्ली, द्वितीय स्थान-प्रियंका गौतम- श्री लाल बहादुर शास्त्री केन्द्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय दिल्ली तथा तृतीय स्थान- आरुषि- द्रोणाचार्य राजकीय महाविद्यालय गुरुग्राम ने प्राप्त किया। इस अवसर पर प्राचार्या डॉ सविता भगत ने विजेता प्रतिभागियों को अपने शुभाशीष प्रदान किये। उन्होंने बताया कि संस्कृत ही एकमात्र ऐसी भाषा है जो वैज्ञानिक है तथा सम्पूर्ण भारतवर्ष को एक सूत्र में बांध सकती है। संस्कृत में माधुर्य है।इसमें वाणी के विकारों को भी दूर करने की शक्ति है। इसलिए हम सभी को अपने दैनिक जीवन मे संस्कृत भाषा को अपनाना चाहिए। प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य बनता है कि वह अपनी इस धरोहर को संजोकर रखे। इस भाषा के उत्थान के लिए अधिक से अधिक इस भाषा का प्रचार प्रसार करें।