महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पौषण अभियान के तहत लोगों में जागरुकता अभियान चलाया

0
361
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 4 फरवरी। जिला में उपायुक्त यशपाल के दिशा निर्देशों अनुसार और उपमंडल में एसडीएम अपराजिता के मार्गदर्शन में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पोषण जागरुकता और बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से जोर शोर से चलाया जा रहा है।
जागरुकता अभियान उपमंडल के गांव बहबलपुर, लाडौली, शाहपुर कलां में महिला पंच और अन्य जनप्रतिनिधियों की अध्यक्षता में आयोजित किए गए।
डब्लुसीडीपीओ शकुंतला रखेजा ने कहा कि सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार जिला में लोगों को पोषण के प्रति लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। इससे महिलाएं प्रेरित होकर इन बातों का जीवन में ढालने का प्रयास करेंगी।
डब्ल्यूसीडीपीओ शकुंतला रखेजा ने बताया कि पोषण अभियान के तहत विभाग द्वारा लोगों में स्वच्छता और स्वच्छ खानपान के प्रति जागरूक करना तथा गर्भवती व दूधमाता महिलाओं के खानपान तथा बच्चों के खान-पान,सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार बच्चों व गर्भवती महिलाओं को टीकाकरण करवाने और महावारी के दौरान किशोरियों व महिलाओं को खानपान एवं स्वयं की स्वच्छता के प्रति समाज में जागरूकता फैलाने का काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पोषण जागरूकता अभियान के प्रति लोगों में अधिक से अधिक खानपान तथा रहन-सहन में स्वच्छता और सात्विकता के प्रति जागरूक करना है।
जागरुकता अभियान में पोषण के पांच सूत्र सूनहरे हजार दिन,पौष्टिक आहार, एनिमिया, डायरिया, स्वच्छता एवं साफ सफाई बारे विस्तार पूर्वक बताया। इसी कड़ी में बच्चों के लिए सतरंगी थाली, अन्नप्राशन,गोद भराई, टीकाकरण व गर्भवती महिलाओं को आयरन की गोलियां और हरी सब्जियों को खाने के तरीकों बारे बारिकी से जानकारी दी।
डब्ल्यूसीडीपीओ शकुंतला रखेजा ने कहा कि बेटियां घर की आन बान और शान होती है। बेटियां बेटों से किसी भी क्षेत्र में कम नहीं है।
जिला में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। ये जागरूकता कार्यक्रम उन गांवों और शहरी क्षेत्रों में आयोजित किए जा रहे हैं जहां लिंगानुपात में काफी अंतर है। ऐसे गांव तथा शहरी क्षेत्र जहां पर लड़कों के मुकाबले लड़कियों की संख्या बहुत कम है। जागरूकता अभियान में बेटियों के पालन पोषण और अन्य सामाजिक सरोकारों के प्रति जागरूक किया जा रहा है।
डब्लूसीडीपीओ शकुंतला रखेजा ने बताया कि सरकार द्वारा जारी हिदायतो के अनुसार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत आपकी बेटी हमारी बेटी स्कीम चलाई गई है। इस स्कीम के तहत अनुसूचित जाति और बीपीएल परिवार की पहली बेटी पैदा होने पर तथा दूसरी व तीसरी बेटी पैदा होने पर सभी वर्ग की जातियों के परिवारों की बेटियों को इस स्कीम में शामिल किया गया है। इस स्कीम के अनुसार सरकार द्वारा आपकी बेटी हमारी बेटी योजना के तहत बालिका के नाम बालिका के जन्म पर ₹21 हजार रुपये की धनराशि की एकमुश्त किस्त एलआईसी में बीमा पॉलिसी के लिए जमा करवाई जाती है। पॉलिसी के लिए लाभार्थी बालिका के माता-पिता द्वारा जन्म प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र आधार कार्ड सहित अन्य जरूरी कागजात महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यालय में आंगनवाड़ी वर्कर के माध्यम से भिजवाए जाने सुनिश्चित किए जाते हैं।
नुक्कड़ नाटकों में सूपरवाइजर, आंगनबाड़ी वर्कर, आगँनबाड़ी सहायक तथा गावों की गणमान्य महिलाएं उपस्थित रही।