ऑनलाइन जिलास्तरीय डांस प्रतियोगिता में दूसरे दिन बच्चों ने दिखाई प्रतिभा

0
375
Nuh Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : कोरोना महामारी के कारण लॉक डाउन के दौरान घरों में बैठे बच्चों की प्रतिभा को निखारने के लिए जिला बाल कल्याण परिषद द्वारा आयोजित ऑनलाइन प्रतियोगिताओं में बच्चों ने जमकर अपनी प्रतिभा को उजागर किया। जिला बाल कल्याण अधिकारी कमलेश शास्त्री ने कहा कि डांस प्रतियोगिता का रिजल्ट इस प्रकार रहा। ग्रुप प्रथम 3 से 5 वर्ष।  फॉक डांस में अामीरा प्रथम, दिव्यांशी द्वितीय, राधिका तृतीय, अनन्या ने सांत्वना स्थान प्राप्त किया। इसी ग्रुप के फिल्मी डांस में जश्नीत प्रथम, नंदनी द्वितीय, वंश तृतीय, इकारा ने सांत्वना स्थान प्राप्त किया। द्वितीय ग्रुप।  6 से 10 वर्ष के क्लासिकल डांस में यशिका प्रथम ,हिमांशी द्वितीय,  भूमिका तृतीय, इशिका, सांत्वना  स्थान पर रही। इसी कड़ी  के फॉक डांस में गरिमा प्रथम, कोमल द्वितीय, विधि तृतीय, रेनू सांत्वना स्थान पर रही साथ ही फिल्मी डांस में अराध्या प्रथम, हितेन द्वितीय , अलीशा खातून तृतीय ,सीजा सांत्वना स्थान पर रही। तृतीय ग्रुप 11 से 14 वर्ष के क्लासिक डांस में ऐश्वर्या प्रथम, स्वर्णिका द्वितीय, आयुष तृतीय, हर्षिता सांत्वना स्थान पर रही। इसी कड़ी में फॉक डांस में ललिता प्रथम, आंचल द्वितीय, प्रतीक खन्ना तृतीय,छाया ने  सांत्वना स्थान प्राप्त किया। साथ ही फिल्मी डांस में सारिका प्रथम, कोमल खन्ना द्वितीय, काजल तृतीय, कशिश ने सांत्वना पुरस्कार प्राप्त किया। इस अवसर पर आईटी सहयोगी डॉ सीपी यादव निर्णायक मंडल के सदस्य रमेश कुमार मलिक बीईओ, सविता रत्ता प्राध्यापक, प्रियंका अध्यापिका एवं बाल कल्याण परिषद का स्टाफ इत्यादि मौजूद था। जिला बाल कल्याण अधिकारी कमलेश शास्त्री ने बताया कि जिलास्तरीय प्रतियोगिताओं का शुभारंभ शुक्रवार से किया गया। परिषद द्वारा गायन, डांस, निबंध लेखन, कविता, कहानी, मिमिक्री, खराब सामान से कलात्मक कृति, पेपर क्राफ्ट और फैंसी ड्रेस प्रतियोगिताएं करवाने का निर्णय लिया हुआ हैं। जिसमें विभिन्न आयु वर्ग के ग्रुप बनाए गए हैं और 3 वर्ष से 14 वर्ष तक के बच्चे परिषद द्वारा आयोजित प्रतियोगिताओं में प्रतिभागिता कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश स्तरीय प्रतियोगिताएं ऑनलाइन आयोजित करवाई जाएंगी और विजेता प्रतिभागियों को नगद इनाम और सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया जाएगा। कमलेश शास्त्री ने कहा कि विश्वव्यापी महामारी कोरोना के चलते परिषद द्वारा यह निर्णय लिया गया। उन्होंने जिला नूंह के सभी अभिभावकों एवं  बच्चों से अपील करते हुए कहा कि वे अधिक से अधिक जिला स्तरीय प्रतियोगिताओं में घर बैठे प्रतिभागिता कर बच्चों के सपनों को उड़ान देने का कार्य करें। उन्होंने बताया कि जिला स्तरीय प्रतियोगिताओं में प्रत्येक प्रतियोगिता में 500 रुपए प्रथम पुरस्कार 300 रुपए द्वितीय पुरस्कार और 200 रुपए तृतीय पुरस्कार तथा 100 रुपए सांत्वना पुरस्कार के रूप में दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि राज्य स्तर पर प्रतियोगिता में विजेता रहे प्रतिभागियों को 3100 रुपए प्रथम पुरस्कार 2100 रुपए द्वितीय पुरस्कार 1100 रुपए तृतीय पुरस्कार व 500 रुपए सांत्वना पुरस्कार के रूप में प्रदान किये जायेगे।