राहत पैकेज देने की बजाय सरकार ने की टूरिज्म कर्मचारियों की छंटनी

0
584
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj :14 मई कोरोनावायरस महामारी के चलते होटल उद्योग संकट में आने से हरियाणा पर्यटन निगम भी अछूता नहीं है, जिसके चलते हरियाणा सरकार ने राहत पैकेज देने की बजाय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने का कल नोटिस जारी किया। जिसके विरोध में पर्यटन स्थलों पर सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा से सम्बंधित हरियाणा टूरिज्म कर्मचारी संघ के महासचिव युद्धवीर सिंह खत्री, उपमहासचिव सुभाष देशवाल, संगठन सचिव टीकाराम शर्मा, वीरेन्द्र सिंह, मुरारी लाल प्रधान होटल राजहंस सूरजकुंड, सुरेन्द्र प्रधान बडख़ल, अरावली गोल्फ क्लब के प्रधान कुंदन लाल, सुभाषचन्द्र तंवर मैगपाई के नेतृत्व में कर्मचारियों ने शारीरिक दूरी तय कर विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने पर्यटन निगम प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि आर्थिक संकट के चलते महाप्रबंधक दिलावर सिंह को रिटायरमेंट के बाद मोटी रकम एक लाख रुपए पर सूरजकुंड मेले का पहली बार मुख्य सलाहकार रखा गया है जिसकी कोई आवश्यकता नहीं है।इसी प्रकार पंचकूला में सुनीत शर्मा मण्डलीय प्रबंधक, गुडग़ांव से जेई को रिटायरमेंट के बाद एसडीओ का चार्ज दिया गया है तब उनके लिए लाखों का मेले के नाम पर बजट है। दूसरी तरफ माननीय प्रधानमंत्रीजी की उस अपील जिसमें उद्योगपतियों को कहा गया है कि किसी कर्मचारी को नौकरी से न निकाले और तनख्वाह भी न काटे को दरकिनार करते हुए अनुबंधित कर्मचारियों को नौकरी से निकाल कर गरीब कर्मचारियों के परिवार को भुखमरी के हवाले कर दिया है। संघ के महासचिव युद्धवीर सिंह खत्री ने कहा कि पर्यटन निगम के सभी पर्यटन स्थलो पर कार्यरत कर्मचारियों ने शारीरिक दूरी तय कर प्रर्दशन किये है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि हरियाणा पर्यटन निगम केंद्रों पर कोविड-19 के योद्धाओं की आधे अधूरे सुरक्षा उपकरणों से सेवा कर रहे हैं उनका होंसले को तोडऩे का काम किया है। उनकी व उनके परिवार की पर्यटन प्रशासन ने प्रवाह नहीं है। निजी सेवा करने वाले अधिकारियों की परवाह है जिसको लेकर हरियाणा टूरिज्म कर्मचारी संघ सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के सहयोग से आन्दोलन को आगे बढ़ाएगा।