श्री प्रकाश जावड़ेकर ने राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच 2021 में विजेताओं को सम्मानित किया

0
289

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 27 जनवरी। देश भर के 250 से अधिक संबद्ध कॉलेजों और 75 से अधिक विश्वविद्यालयों के 25,000 से अधिक छात्रों ने पर्यावरण संरक्षण गतिविधि  (PSG) द्वारा आयोजित राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच 2021 में भाग लिया।

राष्ट्रीय पर्यावरण युवा मंच 2021 के पुरस्कार समारोह की अध्यक्षता आज भारत सरकार के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के माननीय श्री प्रकाश जावड़ेकर ने की। सुश्री आर्या चावड़ा, एक 11 वर्षीय पर्यावरण क्रूसेडर गेस्ट ऑफ ऑनर थीं। इस अवसर पर श्री गोपाल आर्य, राष्ट्रीय संयोजक, पीएसजी; श्री राकेश जैन, राष्ट्रीय सह संयोजक, पीएसजी; डॉ प्रशांत भल्ला, अध्यक्ष, मानव रचना शैक्षणिक संस्थान (MREI); डॉ एच डी चरण, वीसी, बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय; डॉ संजय जैन, कुलपति, भगवान महावीर विश्वविद्यालय; डॉ एन सी वाधवा, डीजी, एमआरईआई और कई संस्थानों के प्रमुख एवं कुलपति उपस्थित थे।

माननीय केंद्रीय मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने अपने वक्तव्य में कहा “हम सब आज 2021 में हैं जबकि पृथ्वी डूबने की बातें 2012 से की जा रही हैं, हमें इन सबसे डरना नहीं है, महज़ जागरूक होना है। 130 करोड़ की आबादी वाले देश में हम सबको “सस्टेनेबल डेवलपमेंट” की तरफ बढ़ना है, हम सबको क्लाइमेट चेंज को ले कर गंभीर सोच विचार करने की ज़रूरत है किन्तु विकास को रोक देना इसका हल कभी भी नहीं हो सकता। हमें देश का विकास और विश्व में पर्यावरण की सुरक्षा दोनों को साथ ले कर चलना है। बाकी विश्व के तुलना में भारत का ऊष्मा उत्सर्जन इतनी अधिक नहीं रही है और आज भी हमारा देश प्रदूषण का कारण नहीं है, हम फिर भी समाधान ढूंढने में बराबर आगे बढ़ रहे हैं। नवीकरणीय ऊर्जा को ही हम आज भी उपयोग में ला रहे हैं, भारत आज एक मात्र देश है, जिसने जैव ईंधन पे दिल्ली से देहरादून तक फ्लाइट ऑपरेट की है”।

डॉ प्रशांत भल्ला ने अपने विचार को साझा करते हुए कहा: “इस आयोजन के माध्यम से, हम पर्यावरण के लिए अपनी भूमिका पर हजारों युवाओं को जागरूक करने में सक्षम हुए हैं। हमें पूरा विश्वास है कि यह देश के पर्यावरण परिदृश्य को बेहतर बनाने में एक गेम चेंजर होगा। हमारे युवा पदक विजेताओं और राष्ट्रीय पर्यावरण यूथ आइकन की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है। उनका योगदान देश के युवाओं को प्रेरित करने के लिए अभिनव चुनौतियों को खोजने में अत्यधिक महत्व रखता है।”

पुरस्कृत:

  1. नेशनलयूथ आइकन – देव प्रकाश शर्मा चंडीगढ़ विश्वविद्यालय से

2. सर्वश्रेष्ठवक्ता – सुश्री सय्यदा जमाल ज़हरा ज़ैदी, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ

3.स्वर्णपदक– श्री काव्या जी एल, सेंट फ्रांसिस डी सेल्स डिग्री कॉलेज, बेंगलुरु; सुश्री ऐश्वर्या चंद्रशेखर, रमैया इंस्टीट्यूटऑफ मैनेजमेंट, बेंगलुरु; और सुश्री नम्रता पी, इंटरनेशनल स्कूल फॉर बिजनेस एंड रिसर्च (ISBR), बैंगलोर विश्वविद्यालय

4.सिल्वरमेडल: डॉ चेतना सिंह मिश्रा, डॉ हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर, म.प्र .; सुश्री सुपर्णा बिटसोका, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रायपुर; सुश्री तनु जोशी डॉ एपीजे अब्दुल कलाम विश्वविद्यालय, इंदौर

5. कांस्यपदक: सय्यदा जमाल ज़हरा ज़ैदी, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ; सुश्री सृष्टि भट्टाचार्य, चंद्रशेखर कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कानपुर; सुश्री प्रिया त्रिपाठी, M.G.C.G.V चित्रकूट (मध्य प्रदेश)

मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (MRIIRS) ग्रैंड फिनाले और पुरस्कार समारोह के लिए मेजबान विश्वविद्यालय था।

पर्यावरण संरक्षण गतिविधि (PSG): PSG एक अखिल भारतीय समूह है जो मानव बलों द्वारा पर्यावरण दुरुपयोग के खिलाफ पर्यावरण की रक्षा, विश्लेषण और निगरानी के लिए समर्पित है। समूह का उद्देश्य एक ईको-फ्रेंडली पर्यावरण के निर्माण पर ध्यान केंद्रित करना है, जहां पेड़ लगाने, जल संरक्षण और सम्मान और सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के बारे में जागरूकता फैलाना है।

मानव रचना शैक्षणिक संस्थान (MREI): MREI में देश भर में फैले जीवंत विश्वस्तरीय संस्थानों की एक रूपरेखा शामिल है। इनमें मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज (MRIIRS, पूर्व में मानव रचना इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी); मानव रचना विश्वविद्यालय (MRU, पूर्व में मानव रचना कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग); मानव रचना डेंटल कॉलेज (एमआरआईआईआरएस के दायरे में); मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल (फरीदाबाद, नोएडा, गुरुग्राम, लुधियाना और मोहाली में); और कुनस्कैप्सकॉलन स्कूल (लखनऊ, गुरुग्राम, बेंगलुरु) शामिल हैं।