विद्यार्थियों ने यूरोपीय विजुअल आर्ट्स के बारे में जाना

0
226

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 5 फरवरी जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद के लिबरल आर्ट्स और मीडिया स्टडीज संकाय ने आज एम.ए. (अंग्रेजी) कार्यक्रम के विद्यार्थियों के लिए यूरोप में विजुअल आर्ट्स पर एक व्याख्यान का आयोजन किया। इस अवसर पर पंडित जवाहर लाल नेहरू गवर्नमेंट कालेज, फरीदाबाद की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. नीर कंवल मानी विशेषज्ञ वक्ता रही। एम.ए. (पत्रकारिता एवं जनसंचार) और बीएससी (एनिमेशन व मल्टी मीडिया) के विद्यार्थियों ने भी व्याख्यान का लाभ उठाया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता मानविकी विभाग के अध्यक्ष डॉ. अतुल मिश्रा ने की। इस अवसर पर प्रसिद्ध भाषाविद् प्रो. आर.सी. शर्मा विशिष्ट अतिथि रहे। कार्यक्रम का आयोजन डॉ दिव्यज्योति सिंह द्वारा द्वारा किया गया था, जिसका समन्वयन डॉ. रीना ग्रेवाल द्वारा किया गया। उल्लेखनीय है कि यूरोपीय विजुअल आर्ट्स को विश्वविद्यालय में एक वैकल्पिक विषय के रूप में पढ़ाया जाता है।
व्याख्यान में पुरातन से लेकर उत्तराधुनिकतावादी कला के बारे में बताया गया, जिसमें गुफाओं के चित्रों के माध्यम से यूरोपीय कला से लेकर पिकासो कलाकृतियां शामिल रही। व्याख्यान विभिन्न संस्कृतियों से संबंधित मुद्दों पर विचार-विमर्श तथा सदियों से कला के बदलते अर्थ और परिभाषा पर से संबंधित था। डॉ. नीर कंवल मानी ने अपने व्यख्यान में समकालीन कविता और ग्राफिक उपन्यास लेखन जैसी समकालीन विधाओं का उल्लेख किया। व्याख्यान विद्यार्थियों द्वारा बखूबी सराहा गया।