क्राइम ब्रांच 65 ने तीन दिन पहले विवेकानंद पार्क में हुए ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए एक आरोपी को किया गिरफ्तार

0
122

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : डीसीपी क्राइम नरेंद्र कादयान द्वारा जघन्य अपराधों में तुरंत कार्रवाई के दिशा निर्देश के तहत कार्य करते हुए क्राइम ब्रांच 65 प्रभारी ब्रह्म प्रकाश की टीम ने तीन दिन पहले 19-20 मईकी रात सेक्टर 21B रेलवे लाइन के पास स्थित स्वामी विवेकानंद पार्क में पत्थर से सिर में चोट मारकर बुजुर्ग की हत्या के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम सोनू उर्फ अविनाश उर्फ बहरा है जो फरीदाबाद के फतेहपुर चंदीला गांव का रहने वाला है। इस मामले में आरोपी का एक साथी सुनील उर्फ बीड़ी उर्फ चूचू अभी फरार चल रहा है जिसकी पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है और उसे जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा। दोनों आरोपी अंखिर में एक सर्विस स्टेशन पर काम करते थे और दोनो नशेड़ी किस्म के व्यक्ति हैं जो शराब के साथ साथ इंजेक्शन का नशा भी करते हैं। क्राइम ब्रांच की टीम ने गुप्त सूत्रों की सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए आरोपी सोनू को कल शाम अंखिर चौक के पास के ठेके से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस थाना एनआईटी में दिनांक 20 मई को हत्या की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था जिसमें आरोपी सोनू ने अपने साथी सुनील के साथ मिलकर बीके अस्पताल में चाय की दुकान लगाने वाले 52 वर्षीय हरगोविंद की पत्थर से सिर में चोट मारकर हत्या कर दी थी। मृतक हरगोविंद के भाई की शिकायत पर पुलिस थाना एनआईटी में मुकदमा दर्ज किया गया था। डीसीपी क्राइम द्वारा इस मामले में तुरंत कार्रवाई के निर्देश दिए गए जिसके पश्चात मामले की गुत्थी को सुलझाने के लिए क्राइम ब्रांच एनआईटी प्रभारी ब्रह्म प्रकाश की अगुवाई में पुलिस टीम का गठन किया गया जिसमें सब इंस्पेक्टर सुरेश, हवलदार गुलाम मोहम्मद व दिनेश, सिपाही आशिद तथा नेपाल का नाम शामिल था। क्राइम ब्रांच की टीम ने मामले में तुरंत कार्रवाई करते हुए मामले में शामिल आरोपी को दिनांक 23 मई को गिरफ्तार कर लिया। प्राथमिक पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह हरगोविंद को पिछले करीब 6 महीने से जानते थे। हरगोविंद पिछले कई सालों से बीके अस्पताल की बिल्डिंग में चाय की दुकान लगाता था। हरगोविंद भी शराब पीने का आदी था इसलिए दोनों आरोपी उसके पास आते जाते थे और उसकी दुकान पर बैठकर उसके साथ शराब पीते थे। एक दिन शराब पीकर बातों बातों में आरोपियों ने हरगोविंद से उसकी कमाई के बारे में पूछा तो हरगोविंद ने बताया कि अपनी मेहनत से उसने करीब 2 लाख रुपए इकट्ठे कर लिए हैं और इन्हें लेजाकर वह गांव में अपना मकान बनाएगा। 2 लाख रुपए की बात सुनकर आरोपियों को लालच आ गया और उन्होंने हरगोविंद से पैसे हड़पने की योजना बनाई। इस योजना के तहत दिनांक 19-20 मई की रात आरोपी बुजुर्ग हरगोविंद को पार्टी देने के बहाने अपने गांव फतेहपुर चंदीला बुलाया और वहां पर शराब पिलाकर उससे पैसों के ठिकाने के बारे में पूछताछ की परंतु जब हरगोविंद ने पैसों के बारे में बताने के लिए मना कर दिया तो उन्होंने उसके साथ मारपीट की और बाद में उसे पुलिस लाइन के पास स्थित विवेकानंद पार्क में लेकर आए और उसके सिर में पत्थर से चोट मारकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस टीम द्वारा वारदात में प्रयोग खून से सना पत्थर बरामद किया गया है। आरोपी को अदालत में पेश करके 1 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है जिसमें पुलिस रिमांड के दौरान आरोपी से उसके साथी सुनील के बारे में गहनता से पूछताछ की जाएगी और उसकी तलाश करके उसे जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।