दंगा नियंत्रण के लिए फरीदाबाद पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स का संयुक्त अभ्यास संपन्न

0
62

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj :  फरीदाबाद सेक्टर-30 स्थित पुलिस लाईन के मैदान में फरीदाबाद पुलिस और दिल्ली के बवाना स्थित 194 बटालियन कैम्प से आयी रैपिड एक्शन फोर्स की टुकड़ियों ने दंगा नियंत्रण का संयुक्त अभ्यास किया।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि लगातार चार घंटे तक चले इस संयुक्त अभ्यास में फरीदाबाद पुलिस तथा रैपिड एक्शन फोर्स (रैफ) के सभी जवान दंगा नियंत्रण से जुड़े सभी उपकरणों से लैस थे। आरएएफ दंगा नियंत्रण के लिए सबसे विश्‍वसनीय फोर्स मानी जाती है, जो बिना समय गंवाए, कम से कम वक्‍त में संकट की स्थिति उत्‍पन्‍न होने पर स्‍थल पर पहुंच जाती है और सामान्‍य जनता के बीच पहुंच उन्‍हे सुरक्षित करती है और उनमें विश्‍वास पैदा करती है कि उनकी सुरक्षा के लिए कोई है। ज्ञात हो कि अनाधिकृत आंदोलन के साथ धार्मिक, साम्प्रदायिक, जातिगत अथवा विभिन्न प्रकार के अफवाहों को लेकर भारी संख्या में आमजनों का आपसी टकराव दंगे का रूप ले लेती है। ऐसी स्थिति में, फरीदाबाद पुलिस-प्रशासन हर चुनौती का सामना करते हुए विधि-व्यवस्था बनाये रखने के लिए अपने सिपाहियों और अधिकारियों को, कुछ विशेष प्रकार का प्रशिक्षण आयोजित कर अभ्यास करवाती रही है। जिसमें क्षेत्र के अनुसार दंगों की स्थिति व नियंत्रण के लिए कारगर उपाय का अभ्यास शामिल होता है। रैफ की टीम पिछले एक सप्ताह से फरीदाबाद के विभिन्न थानाक्षेत्र में स्थानीय पुलिस के साथ पैदल मार्च कर यहाँ की भौगौलिक स्थिति से परिचित हो रही है। अभ्यास के दौरान पुलिस बल ने विकट परिस्थितियों से निपटने के लिए एक-दूसरे जवान से तालमेल रखते हुए अपना शौर्य प्रदर्शित किया।

इस अवसर पर डीसीपी मुख्यालय अंशु सिंगला, डीसीपी ट्रैफिक सुरेश हुड्डा, डीसीपी बल्लबगढ़ जयवीर राठी, एसीपी लायन आर्डर जयपाल सिंह एसीपी सेंट्रल महेंद्र वर्मा एवं एसीपी ट्रैफिक पृथ्वी सिंह व आरएएफ के डिप्टी कमांडेंट महेंद्र कुमार यादव (पीएमजी), इंस्पेक्टर रणसिंह व इंस्पेक्टर मेहर सिंह सहित RAF की टीम के अलावा फरीदाबाद पुलिस के सभी थाना व प्रबंधक चौकी प्रभारी के अतिरिक्त करीब 300 जवानो ने हिस्सा लिया।

अभ्यास संपन्न होने के पश्चात फरीदाबाद पुलिस के जवान सीधे पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे। जहाँ पुलिस आयुक्त श्री विकास कुमार अरोड़ा ने सभी जवानों के साहसिक अभ्यास को प्रोत्साहित करते हुए प्रेरणात्मक संदेश दिया।