जानिए प्रसिद्ध फिजियोथेरेपिस्ट ड़ॉ जितेंद्र सिंगला से कैसे होता है घुटने का दर्द दूर 

0
602
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : घुटनों की कमजोरी और घुटनों में दर्द की समस्या से आपके रोजमर्रा के काम प्रभावित होते हैं। जिसके कारण आपको चलने, उठने- बैठने में तो परेशानी होती ही है, साथ ही घुटनों में लगातार बने रहने वाला दर्द आराम की स्थिति में भी आपको परेशान करता है। घुटने में दर्द की शिकायत को दूर करने के लिए आप तरह-तरह की दवाएं लेते हैं लेकिन कुछ ऐसी एक्सरसाइज हैं, जो इस दर्द को दूर कर सकती हैं।  ये एक्सरसाइज घुटनों को सभी तरह से आराम पहुंचा सकती हैं। इस तरह के रोग पर दवा प्रभावी नहीं होती साथ ही इलाज में भी खर्च अधिक आता है और दवाइयों से होने वाले दुष्प्रभाव का भी सामना करना पड़ता है। तो ऐसे में फिजियोथेरेपी चिकित्सा पद्धति एक वरदान की तरह है। फिजियोथेरेपी चिकित्सा पद्धति में भौतिक साधनों व एक्सरसाइज का उपयोग करके चोट या बीमारियों का निदान और उपचार करने का विज्ञान है। जो लोगों की शारीरिक शक्ति, कार्य, गति और समग्र सुख को बहाल, रख रखाव करने में मदद करती है।
फिजियोथेरेपी के जरिए जोड़ों के दर्द, घुटनों का दर्द आदि जैसी समस्याएं आसानी से दूर हो जाती है। आज के आधुनिक दौर में ऑपरेशन के बाद फिजियोथेरेपी चिकित्सा, हॉस्पिटल में आईसीयू के अंदर फिजियोथेरेपी सबंधित दिक्कतों को बहुत ही आसानी से दूर करती है।
प्रसिद्ध फिजियोथेरेपिस्ट जितेंद्र सिंगला ने बताया कि घुटने के दर्द के लिए फिजियोथेरेपी उपचार से बहुत अच्छा परिणाम मिलता है। घुटने के दर्द के अलावा अन्य कई लक्षण भी हो सकते हैं। जैसे घुटने में सूजन, बांए घुटने का दर्द, दाहिने घुटने का दर्द, घुटने की कटोरी के आसपास दर्द, घुटने के जोड़ों में अकड़न और दर्द। यह दर्द विभिन्न कारणों से हो सकते हैं जिनमें प्रमुख हैं : ऑस्टियोआर्थराइटिस या घुटने की गठिया, मेनिस्कस टीयर, रनर्स नी, बर्साइटिस नी, घुटने में लिगामेंट इंजरी और अन्य घुटने की चोट शामिल हैं। डॉ
सिंगला ने बताया कि घुटनों में दर्द के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जिसमें आपका जरूरत से ज्यादा वजन या मोटापा, मांसपेशियों में कमजोरी, चोट, कार्टिलेज खत्म होना, शारिरिक बनावट, शारिरिक परिश्रम और बढ़ती उम्र शामिल है।  ऐसे बहुत से कारक हैं, जो घुटने के दर्द का कारण बन सकते हैं और आपको ऑस्टियोआर्थराइटिस का शिकार बना सकते हैं। हमारे घुटने बहुत सी गतिविधियों के लिए जिम्मेदार हैं। इसके अलावा ये आपके शरीर का भार भी उठाते हैं। इसलिए आपको इनका खास ध्यान रखने की जरूरत होती है।
साधारण घुटने के दर्द को आसानी से कुछ घरेलू उपाय से ठीक किया जा सकता है। कुछ गंभीर प्रकार के घुटने के दर्द के लिए आपको चिकित्सा की आवश्यकता होगी।
यहां कुछ सामान्य स्थितियां हैं जो अक्सर घुटने के दर्द का कारण बनती हैं:
• ऑस्टियोआर्थराइटिस
• पेटेलोफेमोरल दर्द सिंड्रोम,
• पेटेलर टेंडिनिटिस,
• इलियोटिबियल बैंड सिंड्रोम,
• पटेला अव्यवस्था,
• बर्साइटिस,
• खेल-कूद के दौरान चोंट
आपको को कैसे पता चलेगा कि  घुटने का दर्द गंभीर है?
कुछ लक्षण हैं जब आपको निश्चित रूप से घुटने के दर्द के लिए फिजियोथेरेपिस्ट से परामर्श करना चाहिए
• 5-6 दिनों के बाद भी घुटने का दर्द जारी है।
• अचानक घुटने में दर्द होता है (चोट के साथ या बिना)
• आप प्रभावित तरफ आराम से चलने में असमर्थ हैं
• एक चोट है जो घुटने के जोड़ के आसपास विकृति का कारण बनी है
• आप घुटने के लॉकिंग या घुटने के जोड़ में बकलिंग का अनुभव करते हैं
• आपको घुटने में सूजन के साथ बुखार और लालिमा जैसे संक्रमण के लक्षण होते हैं
– आपको सीढ़ी उतरने- चढ़ने में दर्द
– नीचे जमीन पर उठने- बैठने में दर्द
यदि आप इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो तुरंत भौतिक चिकित्सक से संपर्क करें। घुटने के दर्द के लिए सबसे सटीक निदान और सर्वोत्तम उपचार के लिए कृपया अपने फिजियोथेरेपिस्ट से परामर्श लें।
 घरेलू उपाय से घुटने के दर्द से निदान कैसे पा सकता हूं?
1. आराम – यदि घुटने में दर्द / सूजन है, तो इसे तेजी से उपचार के लिए आराम दें।
2. बर्फ – यदि जोड़ में सूजन है और छूने पर गर्मी महसूस होती है, तो आइस थेरेपी दर्द और सूजन को कम करने के लिए अद्भुत रूप से काम करती है।  दर्द होने पर हीट पैक का प्रयोग करें लेकिन जोड़ के आसपास सूजन और गर्माहट नहीं होनी चाहिए । हाथ की हड्डी का उपयोग करके और दोनों घुटनों की तुलना करके दोनों घुटनों के बीच गर्म के अंतर की जाँच की जा सकती है ।
3. ELEVATION (ऊंचाई)- सूजन को कम करने के लिए तकिए की मदद से पैर को ऊंचाई में रखा जा सकता है।
 कुछ दिनों के बाद भी दर्द बना रहता है, तो आपको उसे इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए – अपने फिजियोथेरेपिस्ट से सबसे सटीक निदान के लिए सलाह लें और अपने घुटने के दर्द के लिए अच्छा इलाज करें।
घुटने के दर्द से राहत के लिए क्या कर सकते है।
घुटने के दर्द के लिए आपके उपचार में निम्न विकल्पों में से एक होगा:
• फिजियोथेरेपी:  घुटने के पुनर्वसन प्रोग्राम  सफलतापूर्वक दर्द की तीव्रता को कम करते हैं और घुटने के उपयोग में सुधार करते हैं। फिजियोथेरेपी, विभिन्न प्रकार की फिजियोथेरेपी तकनीकों का उपयोग करके घुटने के दर्द को कम करने में मदद करती है, जिसमें इलेक्ट्रो-थेरेपी, हॉट / कोल्ड थेरेपी जैसे तकनीके शामिल हैं।
• आसपास की मांसपेशियों को मजबूत करने से घुटने के जोड़ को अधिक स्थिर बनाने में मदद मिलेगी। यदि आप एक  खिलाड़ी हैं या आमतौर पर शारीरिक रूप से सक्रिय रहते हैं, तो फिजियोथेरेपिस्ट आपको सही मूवमेंट पैटर्न भी सिखाते है। जो आपके घुटने को प्रभावित कर सकता है। वे आपको अपने खेल / गतिविधि के लिए अच्छी तकनीक के साथ मार्गदर्शन करेंगे।
• सर्जरी: जब अन्य सभी रूढ़िवादी विकल्प विफल हो जाते हैं, तो आपको उस पुराने घुटने के दर्द का इलाज करने के लिए घुटने की सर्जरी की सलाह दी जा सकती है। चुनिंदा घुटने की चोटों को सुधारक / मरम्मत सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। घुटने की सर्जरी आर्थोस्कोपिक घुटने की सर्जरी से लेकर पूरे घुटने के बदलने तक होती है। अस्थिबंधकों की मरम्मत और खोई हुई हड्डियों या उपास्थि के छोटे टुकड़ों को हटाने के लिए आर्थ्रोस्कोपिक घुटने की सर्जरी बहुत ही सामान्य शल्य प्रक्रिया है।
घुटने की सर्जरी के बाद रिकवरी में फिजियोथेरेपी का एक अभिन्न अंग है। सामान्य घुटने की सर्जरी के लिए फिजियोथेरेपिस्ट के साथ रीहैब की आवश्यकता होती है।
1. खेल चोट की रिकवरी
2. घुटने बदलना (TKR या PKR)
3. घुटने के जोड़ या लिगामेंट की मरम्मत के लिए घुटने की आर्थ्रोस्कोपी
घुटने के दर्द के लिए सबसे अच्छा व्यायाम क्या हैं?
फिजियोथेरेपिस्ट डॉ जितेंद्र सिंगला द्वारा दिखाए गए ये घुटने के गठिया के एक्सरसाइज घर पर किए जा सकते हैं। इन एक्सरसाइज से घुटने के दर्द से राहत मिलती है।
घुटने के लिए फिजियोथेरेपी एक्सरसाइज के अलावा, वह घुटने के दर्द के लिए घरेलू उपचार के सुझाव भी देते है।