लिंग्याज विद्यापीठ में हुआ पीएचडी स्कॉलर का ऑनलाइन ओरिएंटेशन डे

0
138

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : फरीदाबाद स्थित लिंग्याज विद्यापीठ (डीम्ड-टु-बी) यूनिवर्सिटी में नए पीएचडी बैच का ऑनलाइन ओरिएंटेशन डे मनाया गया। सर्वप्रथम लिंगयाज एंथम द्वारा छात्रों का कॉलेज के प्रति उत्साह बढ़ाया गया। मंच का संचालन डिपारेटमेंट ऑफ एजुकेशन की एचओडी डॉ. अंकुर त्यागी ने किया। इस अवसर पर डीन आर.एन.डी डॉ. विश्वजीत जितुरी ने पीएचडी छात्रों को संबोधित करते हुए कुछ टिप्स और ट्रिक्स बताएं। साथ ही अपने बहुमूल्य अनुभवों को सभी के साथ सांझा किया।
उन्होंने कहां कि पढ़ाई शुरू करने का कोई समय नहीं होता कोई उर्म नहीं होती। बस अपने गोल पर फोकस करना चाहिए कि हमें कहां पहुंचना है। तत्पश्चात डायरेक्टर अकादमिक प्रो. जसकिरण कौर ने पीएचडी को क्षेत्र की सर्वोच्च शैक्षणिक उपलब्धि माना जाता है। पीएचडी प्राप्त करने के लिए कई वर्षों के समर्पणकड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहां कि अपनी स्टडी को स्मार्टली डिवाइड करे। ताकि एक निर्धारित समय में ही पाएचडी प्राप्त कर सके। वहीं डीन कॉरपोरेट अफेयर्स डॉ. प्रसाद ने कहां कि यदि हम कोई भी पूरी लग्न और मेहनत से करते है तो हमें सफलता अवश्य प्राप्त होती है। पीएचडी की डिग्री प्राप्त करना बड़ी मेहनत का काम है। बिना फोकस और बिना पढ़ाई के इस
डिग्री को प्राप्त नहीं किया जा सकता।
पिछले साल ही लिंग्याज यूनिवर्सिटी से पीएचडी ग्रहण कर चुके कर्नल (डॉ.) अश्विनी कुमार जोशी (सेवानिवृत्त) अतिथि वक्ता के तौर पर ऑनलाइन ओरिएंटेशन में शामिल हुए। उन्होंने अपने चार दशकों से अधिक अनुभव से रूबरू कराया।
वर्तमान में अर्न्स्ट एंड यंग के निर्देशक हैं।

इसके अलावा स्कूल ऑफ कॉमर्स एंड मैनेजमेंट की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. रिचा व स्कूल ऑफ बेसिक एंड एपलाइड साइंसिस के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. रिजवान ने सभी पीएचडी स्कॉलर्स को कोर्सिस व रूल्स एंड रेगुलेशन से अवगत कराया। इस अवसर पर रिसर्च एंड पीएचडी कोऑर्डिनेटर डॉ. तापसी नागपाल ने सभी का धन्यवाद किया। कार्यक्रम का समापन किया।