पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा और डीसीपी मुख्यालय नितेश अग्रवाल सहित हजारों पुलिसकर्मियों ने प्रशासन द्वारा आयोजित योग में लिया हिस्सा

0
61

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सेक्टर 12 खेल परिसर में डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा मुख्य अतिथि के तौर पर योग में हिस्सा लेने के लिए सेक्टर 12 पहुंचे उनके साथ योग में हिस्सा लेने वाले विधायिका सीमा त्रिखा, हरियाणा महिला आयोग की चेयरपर्सन रेनू भाटिया, पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा, डीसीपी मुख्यालय नीतिश अग्रवाल सहित पुलिस टीम के अलावा जिला प्रशासन व अन्य विभागों व अन्य विभागों के सहित हजारों लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया

मण्डल आयुक्त संजय जून, डीसी जितेन्द्र यादव, एडीसी मोहम्मद इमजान रजा, सीईओ जिला परिषद सतेन्द्र दुहन, एसडीएम परमजीत चहल, सीटीएम नसीब कुमार, डा० विनय सीएमओ, अतिरिक्त सीईओ जिला परिषद अंकिता, जिला आयुष अधिकारी डॉ. अजीत कुमार, डीआईपीआरओ राकेश गौतम, तहसीलदार नेहा सारण सहित पतंजलि प्रतिनिधियों सहित विभिन्न विभागों के अधिकारियों सहित हजारों लोगों के साथ आठवें अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योग अभ्यास किया।

योग वैसे तो पुलिसवालों के लिए दिनचर्या में शामिल है किन्तु, समय के अभाव मे जो योग नही करते है उनके लिय जागरूकता बढ़ाने की बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता। 8वे अंतराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर थाना स्तर पर सामूहिक योगाभ्यास अलग अनुभव के साथ महत्वपूर्ण है।

21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर फरीदाबाद पुलिस के सभी डीसीपी, रेसिपी और थानों प्रबंधकों सहित खेल परिसर में योगाभ्यास का आयोजन सम्पन्न हुआ। योग में अनुलोम-विलोम, कपालभाति, भ्रामरि व सूर्यनमस्कार जैसे योग और प्राणायाम का अभ्यास कराया गया।

पुलिस आयुक्त महोदय ने कहा कि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ दिमाग रहता है योगाभ्यास की महत्वता पर अपने विचार प्रकट करते हुए प्रतिदिन योग का अभ्यास करने की बात कही। योग से मन शांत रहता हैं. दिमाग दुरुस्त होता है, जिससे सकारात्मक विचार का प्रवाह होता हैं. सकारात्मक भाव से जीवन का नजरिया बदल जाता हैं. इन्सान को किसी भी वस्तु, अन्य इन्सान या जानवर में कुछ गलत दिखाई नहीं देता. किसी के लिए मन में बैर नहीं रहता.इस तरह योग से मनुष्य का मनोविकास होता हैं। योग से मनुष्य में आत्मबल बढ़ता हैं, कॉन्फिडेंस आता हैं. जीवन के हर क्षेत्र में कार्य में सफलता मिलती हैं. मनुष्य हर परिस्थिती से लड़ने के काबिल होता हैं. साथ ही जीवन की चुनौतियों को उत्साह से लेता हैं।

पुलिसकर्मी विपरीत परिस्थितियों में भी 24 घंटे की ड्यूटी करते हैं जिसकी वजह से खाने-पीने और स्वास्थ्य में संतुलन नहीं रहता। जिसके कारण पुलिस कर्मियों के स्वास्थ्य में कमी आ जाती है, कमियों को दूर करने के लिए योग करना अति आवश्यक है।