महिलाओं को रोजमर्रा के उपयोग में आने वाले कपड़ों की ड्राफ्टिंग एवं सिलाई करना सिखाया गया

0
759
Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 5 फरवरी। महिलाओं का अपने पैरों पर खड़ा होना बहुत जरूरी है। जब तक हमारी आधी आबादी आत्मनिर्भर नहीं होगी समाज में साकारात्मक बदलाव नहीं आएगा।
उक्त बातें बालिकाओं व महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से कार्य कर रही सिंगर इंडिया लिमिटेड की जीएम-एचआर अल्पना सरना ने आज जिले के गांव तिगांव में छह माह का ड्राफ्टिंग व सिलाई प्रशिक्षण प्राप्त करने वाली प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र वितरित हुए कहीं। इस मौके पर जिला रेडक्रास सोसायटी के सचिव विकास कुमार विशेष रूप से उपस्थित रहे।
प्रशिक्षण के समापन मौके पर परियोजना में कार्यरत ने प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते हुए अल्पना सरना कहा कि अगर महिलाएं आगे आएं तो परियोजना की ओर से इस प्रकार के प्रशिक्षण भविष्य में भी आयोजित किए जाएंगे। अल्पना सरना ने बताया कि प्रशिक्षण के दौरान महिलाओं को रोजमर्रा के उपयोग में आने वाले विभिन्न प्रकार की कपड़ों की ड्राफ्टिंग एवं सिलाई करना सिखाया गया। अब इन महिलाओं को आमदनी भी होने लगी है। प्रशिक्षिकाओं ने महिलाओं को प्रशिक्षण के प्रति बहुत उत्साहित व रुचिपूर्ण बताया। उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों को संस्था के माध्यम से तैयार सामान को बाजार में उपलब्ध कराने में सहयोग करने का आश्वासन दिया।
जिला रेडक्रास सोसायटी के सचिव विकास कुमार ने कहा कि गरीब महिलाओं के लिया यह प्रशिक्षण एक वरदान की तरह है। सिंगर इंडिया लिमिटेड पहले तो वंचित महिलाओं को सिलाई का प्रशिक्षण देती है ताकि वे अपने पैरों पर खड़ी हो सके और अपने तथा अपने परिवार का भरण पोषण कर सके।
कार्यक्रम में हरियाणा रेडक्रास सोसायटी की एग्जक्यिूटिव सदस्या सुषमा गुप्ता, जिला रेडक्रास सोसायटी के सहायक सचिव बिजेंद्र सौरात, सहायक पुरुषोत्तम सैनी, मधु, देशराज गौतम तथा डा. एमपी सिंह की भी सक्रिय भूमिका रही।