रेडक्रॉस भवन में तपेदिक मरीजों को पौष्टक आहार का वितरण किया गया

0
78

Faridabad Hindustan ab tak/Dinesh Bhardwaj : 15 जनवरी। जिला रेडक्रॉस सोसायटी के अध्यक्ष एवं उपायुक्त जितेंद्र यादव के आदेशानुसार जिला रेड क्रास सोसायटी फरीदाबाद तथा लायंस क्लब ऑफ फरीदाबाद सेंट्रल, डफोडिल, रॉयलस एवं ग्रेटर यूथ ने आज सेक्टर-12 स्थित रेडक्रास भवन में तपेदिक मरीजों को पौष्टक आहार का वितरण किया। यह आयोजन मुख्यातिथि वाइस जिला गवर्नर लायन अनिल अरोड़ा के जन्मदिवस के अवसर पर किया गया।

इस मौके पर विशिष्ट अतिथियों में जिला रेडक्रास सोसायटी के सचिव विकास कुमार, पीएमसी लायन कुलभूषण शर्मा, आरसी रवि मनचंदा, जेडीसी लायन तरुण खरबंदा, कार्यक्रम संयोजक विमल खंडेलवाल, उप सचिव पुरुषोत्तम सैनी,  टीबी कोर्डिनेटर मधु भाटिया, जतिन शर्मा, वाइस डिस्ट्रिक्ट गवर्नर लायन अनिल अरोड़ा, कुलभूषण शर्मा, रवि मनचंदा, महेश बांगा, राजन मदान, ईश दुरेजा, अनिल प्रताप सिंह, अनिल खुराना, दाऊजी सिंह, राजेंद्र कुमार, राहुल सिंघल, स्वाति गोयल, मनोज नरूला, जितिन आहूजा, ललित मोहन अग्रवाल, मुकेश जैन व अरुण गोयल आदि उपस्थित रहे।

जिला रेडक्रॉस सोसायटी के सचिव विकास कुमार व टीबी कोर्डिनेटर मधु भाटिया की टीम द्वारा मरीजों को सावधानी और दवाइयों के प्रयोग को लेकर जानकारी दी गई। जिला रेडक्रॉस सोसायटी के पदाधिकारियों और संगठन के पदाधिकारियों द्वारा तपेदिक बीमारी से पीडि़त मरीजों को आहार को लेकर जागरूक किया गया और उन्हें बताया गया कि इस बीमारी के इलाज के दौरान उन्हें किस तरह के पोस्टिक आहार की जरूरत होती है और उन्हें अपने नियमित दिनचर्या में किस तरह के बदलाव करने की जरूरत है। उन्होंने बताया गया कि सरकार की मंशा 2025 तक संपूर्ण भारत को टीबी मुक्त बनाया जाना है। इस अभियान में सभी लोगों का सहयोग होना आवश्यक है।

वहीं मुख्यातिथि लायन अनिल अरोड़ा ने जानकारी देते हुए बताया कि तपेदिक बीमारी से पीडि़त मरीज को नियमित खानपान से संबंधित सावधानियां बरतने की जरूरत है, क्योंकि इस बीमारी में लगातार लगातार वजन घटने की समस्या देखने को मिलती है। ऐसे में नियमित पौष्टिक खानपान से हम अपने स्वास्थ्य को ठीक रख सकते हैं।

वहीं पुरुषोत्तम सैनी व विमल खंडेलवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि जिला रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा सभी मरीजों को समय-समय पर स्वास्थ्य संबंधित और नियमित दवाइयों से संबंधित सलाह और जानकारी दी जाती है। हम सभी को संकल्प लेना चाहिए की हम सब मिलकर 2025 तक भारत को टीबी मुक्त बनाने में सहयोग करेंगे।